कुल्लू घाटी में अच्छी बारिश के चलते लहसुन और मटर की बंपर पैदावार की उम्मीद

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में सर्दियों के मौसम में समय-समय पर अच्छी बारिश से घाटी के किसानों के चेहरे पर रौनक लौट आई है. कुल्लू के ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों ने लहसुन व मटर की फसल बड़े पैमाने लगाई है.

Tulsi Bharti | News18 Himachal Pradesh
Updated: March 16, 2019, 1:16 PM IST
कुल्लू घाटी में अच्छी बारिश के चलते लहसुन और मटर की बंपर पैदावार की उम्मीद
लहसुन के खेत में किसान
Tulsi Bharti | News18 Himachal Pradesh
Updated: March 16, 2019, 1:16 PM IST
हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में सर्दियों के मौसम में समय-समय पर अच्छी बारिश से घाटी के किसानों के चेहरे पर रौनक लौट आई है. दरअसल, कुल्लू के ग्रामीण क्षेत्रों में लहसुन व मटर की फसल बड़े पैमाने लगाई है. बारिश और बर्फबारी के बाद अब मौसम खुल गया है और लगघाटी, मणिकर्ण, गड़साघाटी, ऊझी के साथ भुंतर, शमशी, मौहाल, बदाह व पाहनाला, खराहल क्षेत्र में किसानों ने लहसुन व मटर के फसल की निड़ाई का काम करना शुरू कर दिया है. गौरतलब है कि कुल्लू घाटी में किसान लहसुन की फसल बहुतायत मात्रा में उगाते हैं. बीते 3 माह में बारिश और बर्फबारी से किसानों को लहसुन की अच्छी फसल की उम्मीद बंध गई है. घाटी में लहसुन की फसल की देखरेख के कार्य में लोग जुट गए हैं. किसानों की मानें तो अगर मौसम ने आगामी दो माह तक साथ दिया तो लहसुन की अच्छी फसल होगी और इस इलाके के हजारों किसानों को इसका आर्थिक लाभ मिलेगा.

लगघाटी भुटठी के स्थानीय किसान सुंदर सिंह ने बताया कि सर्दियों के मौसम में इस बार अच्छी बारिश हुई है. इसके चलते लगघाटी के किसानों की लहसुन को संजीवनी मिल गई है. उन्होंने कहा कि अभी तक तो मौसम ने साथ दिया है और बारिश अच्छी होने से इस वर्ष लहसुन की फसल को पानी पर्याप्त मात्रा में मिला है और इसके बाद भी अब ज्यादा बारिश होगी तो उससे लहसुन की फसल को नुकसान होने की संभावना है.

कुल्लू के किसान संजीव कुमार ने बताया कि इस वर्ष बीते कई वर्षो की तरह ही अच्छी बारिश से किसानों के चेहरे खिल उठे हैं. उन्होंने कहा कि इस वर्ष समय-समय पर बारिश से किसानों को फसल के लिए पानी लगाने जरूरत नहीं पड़ी, जिससे लोगों को फसल तैयार करने के लिए मौसम का भरपूर साथ मिल गया है.



उन्होंने कहा कि मौसम का साथ मिला तो घाटी के किसानो की लहसुन की फसल की पैदावार अच्छी रहेगी. आगमी एक-दो महीने समय-समय पर थोड़ी बारिश होती रहेगी तो लहसुन के आकार में बढ़ोतरी होगी और बाजार में उसके अच्छे दाम मिलेंगे.

यह भी पढ़ें: बेटे ने एक्सीडेंट में मौत से पहले मां से फोन पर कहा-'खाना खाने ढाबा जा रहा हूं'

कुल्लू में तेंदुओं का आतंक, अब तक दर्जनों कुत्तों और खच्चरों का किया शिकार
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...