होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /

गायों में फैली लंपी स्किन डिजीज, ऊना में 50 से ज्यादा मामले आते ही अलर्ट, दूध लेने पर बरतें ये एहतियात

गायों में फैली लंपी स्किन डिजीज, ऊना में 50 से ज्यादा मामले आते ही अलर्ट, दूध लेने पर बरतें ये एहतियात

ऊना में लंपी स्किन डिजीज के मामलों में बेतहाशा वृद्धि होने लगी है.

ऊना में लंपी स्किन डिजीज के मामलों में बेतहाशा वृद्धि होने लगी है.

Lumpy Skin Disease in Cows:इस बीमारी की हिट लिस्ट में कई पशुशालाएं आ चुकी हैं. जिला मुख्यालय के नजदीक एक गौशाला में 25 गायों में यह बीमारी साफ तौर पर देखी जा सकती है. वहीं, चिकित्सकों ने इस रोग की रोकथाम के लिए पशुपालकों से फौरन पशुपालन विभाग से संपर्क करने के लिए भी कहा है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

लंपी स्किन डिजीज को लेकर अलर्ट, जांच के लिए भोपाल भेजे गए सैंपल
50 से अधिक मामले, सोमवार से शुरू होगा वैक्सीनेशन

ऊना. जिला ऊना में लंपी स्किन डिजीज के मामलों में बेतहाशा वृद्धि होने लगी है. पंजाब और राजस्थान के बाद अब हिमाचल प्रदेश में भी सैकड़ों की संख्या में पशुओं में यह बीमारी देखने को मिल रही है, जबकि रोग की रोकथाम के लिए पशुपालन विभाग के चिकित्सक फील्ड में उतर गए हैं. जिला भर के उन स्थानों पर इस रोग के ज्यादा फैलने का खतरा मंडरा रहा है, जहां पर काफी संख्या में एक साथ पशुओं को रखा गया है.

इस बीमारी की हिट लिस्ट में कई पशुशालाएं आ चुकी हैं. जिला मुख्यालय के नजदीक एक गौशाला में 25 गायों में यह बीमारी साफ तौर पर देखी जा सकती है. वहीं, चिकित्सकों ने इस रोग की रोकथाम के लिए पशुपालकों से फौरन पशुपालन विभाग से संपर्क करने के लिए भी कहा है. साथ ही इस बीमारी के रोगी पशुओं के दूध का प्रयोग करने के लिए भी जरूरी एहतियाती कदम उठाने के लिए हिदायत जारी की गई है.

 जांच के लिए भोपाल भेजे गए सैंपल
हिमाचल प्रदेश के शिमला जिला के बाद अब मैदानी इलाके ऊना में भी पशुओं में फैल रही लंपी स्किन डिजीज नाम की बीमारी फैलना शुरू हो चुकी है. जिला में अभी तक 50 से ज्यादा मामले इस बीमारी के रिपोर्ट किए जा चुके हैं, जिनकी जांच के लिए सैंपल जुटाकर भोपाल भेजे जा चुके हैं. पशुपालन विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों ने भी इस बीमारी से निपटने के लिए कमर कस ली है और तमाम चिकित्सक फील्ड में डेरा डाल चुके हैं. राहत भरी खबर यह है कि अभी तक इस बीमारी के चलते जिला में किसी भी मवेशी की मौत नहीं हुई है.

50 से अधिक मामले, सोमवार से शुरू होगा वैक्सीनेशन
पशुपालन विभाग की तरफ से इस बीमारी से निपटने के लिए गठित की गई टीम के नोडल अधिकारी डॉ राकेश भट्टी का कहना है कि जिला में अभी तक 50 के करीब मामले दर्ज किए जा चुके हैं. सोमवार को इस बीमारी की रोकथाम के लिए वैक्सीनेशन अभियान भी शुरू किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि फिलहाल यह बीमारी केवल मात्र गायों में ही देखी जा रही है. उन्होंने बताया कि इस बीमारी से केवल मात्र 20 फीसदी पशु ही संक्रमित होंगे, जबकि इससे केवल मात्र 1 से 5 तक मवेशियों की अधिकतम मौत हो सकती है.

संक्रमित गाय का दूध लेने से पहले बरतें ये एहतियात
वहीं दूसरी तरफ डॉ. अमित सामा का कहना है कि इस बीमारी से पीड़ित पशु का दूध जरूरी एहतियात के साथ इस्तेमाल किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि संक्रमित गायों के दूध को गर्म किये बिना इस्तेमाल न करें.

Tags: Himachal pradesh news, Lumpy Skin Disease, Una News

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर