Spiti: BRO के पास ही रहेगा चीन बॉर्डर से सटा सुमदो-ग्राम्फू मार्ग, केंद्र ने वापस ली नोटिफिकेशन
Manali News in Hindi

Spiti: BRO के पास ही रहेगा चीन बॉर्डर से सटा सुमदो-ग्राम्फू मार्ग, केंद्र ने वापस ली नोटिफिकेशन
स्पीति घाटी को यह मार्ग मनाली की ओर से जोड़ता है.

केंद्र ने इस मार्ग को बीआरओ से पीडब्लयूडी विभाग को दे दिया था. बाद में बीते दिन जब स्थानीय विधायक और हिमाचल कैबिनेट में मंत्री रामलाल मारकंडा का स्पीति में भारी विरोध हुआ था. बड़ी संख्या में लोगों ने मंत्री का काफिला रोक दिया था. वहीं, कुछ लोग भूख-हड़ताल में भी बैठे थे.

  • Share this:
मनाली. हिमाचल प्रदेश के लाहौल स्पीति (Lahaul Spiti) के समदो-ग्राम्फू मार्ग की रेनोवेशन का काम बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेश के पास ही रहेगा. केंद्र सरकार ने इसकी अधिसूचना वापस ले ली है.

लाहौल स्पीति के पूर्व विधायक रवि ठाकुर ने सुमदो-ग्राम्फू मार्ग को बीआरओ के अधीन रहने पर केन्द्र सरकार का आभार जताया है. रवि ठाकुर ने कहा कि सरकार ने कहा कि बीते कुछ महीने पहले इस मार्ग की अधिसूचना जारी कर इसे बीआरओ से पीडब्लयूडी विभाग को दे दिया था. बाद में स्पीति घाटी की जनता ने विरोध किया था. लोगों ने मार्ग को बीआरओ के अधीन ही रखने की मांग की थी. अब केन्द्र सरकार ने इस पर संज्ञान लेते हुए इस मार्ग को वापिस बीआरओ को सौंप दिया है. रवि ठाकुर ने कहा कि इसका लाभ घाटी के लोगों को होगा और दिहाड़ीदार मजदूरों को होगा.

ये है मामला
बता दें कि केंद्र ने इस मार्ग को बीआरओ से पीडब्लयूडी विभाग को दे दिया था. बाद में बीते दिन जब स्थानीय विधायक और हिमाचल कैबिनेट में मंत्री रामलाल मारकंडा का स्पीति में भारी विरोध हुआ था. बड़ी संख्या में लोगों ने मंत्री का काफिला रोक दिया था. वहीं, कुछ लोग भूख-हड़ताल में भी बैठे थे. लोगों का तर्क था कि यदि पीडब्ल्यूडी को इस मार्ग को सौंप दिया गया तो उनका रोजगार छिन जाएगा. ऐसे में उन्हें खाने के लाले पड़ जाएंगे. इस मामले में विरोध करने वाले लोगों पर केस भी दर्ज किया गया था. सामरिक दृष्टि से भी यह मार्ग अहम है. क्योंकि यहां से भारतीय सेना की आवाजाही भी होती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading