होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /

मनाली पुल हादसाः पुल ना बनाने के लिए ठेकेदार दोषी, सरकार नहीः मंत्री गोविंद ठाकुर

मनाली पुल हादसाः पुल ना बनाने के लिए ठेकेदार दोषी, सरकार नहीः मंत्री गोविंद ठाकुर

नदी में पानी का जलस्तर बढ़ने से पुल इसकी चपेट में आ गया और दो किशोर नदी में बह गए.

नदी में पानी का जलस्तर बढ़ने से पुल इसकी चपेट में आ गया और दो किशोर नदी में बह गए.

Manali Bridge Collapse: 15 अगस्त को सोलंग गांव में एक अस्थाई पुल ब्यास में पानी बढ़ने से बह गया था. इस दौरान पुल पार कर रहे दो बच्चे ब्यास में बह गए थे, जिनके शव बाद में बरामद हुए हैं. अगले दिन जब पीडब्ल्यूडी के अधिकारी मौके पर पहुंचे थे तो ग्रामीणों ने उनका विरोध किया था. साथ ही जेई को जूतों की माला पहना दी थी.

अधिक पढ़ें ...

मनाली. हिमाचल प्रदेश सरकार में शिक्षा मंत्री और मनाली के विधायक गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि सोलंग के अस्थाई पुल टूटने से हुई दो बच्चों की मौत दुःखद और दुर्भाग्यपूर्ण घटना है. उन्होंने कहा कि प्रभावित परिवार को हुए नुकसान की भरपाई नहीं की जा सकती, लेकिन सरकार हमेशा प्रभावित परिवार के साथ खड़ी है. उन्होंने कहा कि प्राकृतिक आपदा पर राजनीति करना कहां तक उचित है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता व लोग प्राकृतिक आपदा में भी राजनीतिक रोटियां सेंकने से बाज नहीं आ रहे हैं. उन्होने कहा कि सोलंग गांव के ग्रामीणों की समस्या जायजा है.

गोविन्द सिंह ठाकुर ने कहा कि कंकरीट का पुल जब तक तैयार नहीं हो जाता, तब तक गांव के लिए एक महीने के भीतर वैली ब्रिज बनाया जाएगा. उन्होंने कहा कि 2010 में विधायक निधि में ही सोलंग पुल स्वीकृत करवाया था, लेकिन लम्बे समय के बाद पुल तैयार न होना दुर्भाग्यपूर्ण है. समय पर पुल न बनने का दोषी ठेकेदार है सरकार नही है. सरकार समय- समय पर ठेकेदार पर शिकंजा कसती रही है. उन्होंने कहा कि छाकी और जगतसुख पुल भी इसी ठेकेदार के कारण देरी से तैयार हो रहे हैं. सोलंग गांव के ग्रामीणों का गुस्सा जायजा है. प्रदेश सरकार उनके दुख दर्द दूर करने के हर सम्भव प्रयास कर रही है.

मनाली पुल हादसा, PWD, जेई को जूतों की माला पहनाई, सोलंग के ग्रामीणों पर FIR, himachal news, shimla news, हिमाचल की खबर, himachal pradesh, himachal live news,

पुल के बहने का वीडियो भी सामने आया था. साथ ही जेई को जूतों की माला और झुला पुल पर लटकाए हुए वीडियो भी वायरल हुए हैं.

क्या है पूरा मामला

15 अगस्त को सोलंग गांव में एक अस्थाई पुल ब्यास में पानी बढ़ने से बह गया था. इस दौरान पुल पार कर रहे दो बच्चे ब्यास में बह गए थे, जिनके शव बाद में बरामद हुए हैं. अगले दिन जब पीडब्ल्यूडी के अधिकारी मौके पर पहुंचे थे तो ग्रामीणों ने उनका विरोध किया था. साथ ही जेई को जूतों की माला पहना दी थी. इस दौरान गोविंद ठाकुर के खिलाफ भी लोगों ने नारेबाजी की थी.  दूसरी ओर, ग्रामीणों पर सरकारी अधिकारियों से बदसलूकी पर केस दर्ज किया है.

Tags: Himachal pradesh, Kullu Manali News, Manali

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर