एडीसी साहब! रोजाना पांच किमी पैदल चलकर पहुंचना पड़ रहा है कॉलेज

मंडी जिला मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर स्थित ननांवा गांव से कालेज पढ़ने के लिए आने वाले बच्चों को बस तक की सुविधा नहीं मिल पा रही है.

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 3, 2019, 4:47 PM IST
Virender Bhardwaj
Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 3, 2019, 4:47 PM IST
हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर स्थित ननांवा गांव से कालेज पढ़ने के लिए आने वाले बच्चों को बस तक की सुविधा नहीं मिल पा रही है. आज इन सभी कॉलेज स्टूडेंटस ने एडीसी मंडी से मिलकर उन्हें एक शिकायत पत्र सौंपा और बताया कि निगम की बसें ननांवा गांव के पास नहीं रूक रही है. यदि बसें रूक रही हैं तो कॉलेज स्टूडेंट्स को बसों में नहीं बैठने दिया जा रहा है. इस कारण इन्हें बरसात के इस मौसम में कॉलेज पहुंचने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

'पैदल चलना पड़ता है फिर प्राइवेट बस पकड़कर सफर करना पड़ता है'

Students-स्टूडेंटस
कॉलेज स्टूडेंटस ने एडीसी मंडी से मिलकर उन्हें एक शिकायत पत्र सौंपा और बताया कि निगम की बसें ननांवा गांव के पास नहीं रूक रही है.


स्टूडेंटस ने बताया ननांवा गांव से रत्ती पुल तक पांच किमी का सफर पैदल तय करने के बाद प्राइवेट बस पकड़कर मंडी पहुंचना पड़ रहा है. इन्होंने एडीसी को बताया कि जब वह मंडी से वापिस अपने घरों के लिए जाते हैं तो बस के चालक और परिचालक इनके साथ दुर्व्यवहार करते हैं. बसों में कॉलेज स्टूडेंट्स को सीट पर नहीं बैठने दिया जाता है.

अतिरिक्त बस सेवा शुरू करने की मांग की है

इन्होंने ननांवा गांव से मंडी से के लिए कॉलेज के समय पर अतिरिक्त बस सेवा शुरू करने की मांग की है. वहीं एडीसी मंडी आशुतोष गर्ग ने आरएम मंडी से फोन पर बात करके तुरंत कार्रवाही के आदेश जारी किए.

यह भी पढ़ें: HRTC भर्ती: बिना टेस्ट दिए दो चालकों को मिल गई नौकरी, मंत्री ने कहा-पूरी पारदर्शिता बरती गई
Loading...

VIDEO : हमीरपुर में बस और टैंपू में जोरदार टक्कर, 17 यात्री घायल

हिमाचल: सड़क हादसे में सालाना जाती है 1200 से ज्यादा लोगों की जान, उठाए जाएंगे ये कदम
First published: August 3, 2019, 4:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...