डीएसपी पदोन्नति के बाद गुरबचन सिंह को 15 अगस्त को मिलेगा ये तोहफा

मंडी जिला के सुंदरनगर पुलिस में बतौर एसएचओ तैनात इंस्पेक्टर गुरबचन सिंह रणौत को डीएसपी (DSP) पदोन्नति के बाद एक और तोहफा मिला है.

Nitesh Saini | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 14, 2019, 7:42 PM IST
डीएसपी पदोन्नति के बाद गुरबचन सिंह को 15 अगस्त को मिलेगा ये तोहफा
डीएसपी गुरबचन सिंह रणौत को भारत सरकार के गृह विभाग द्वारा इस वर्ष 15 अगस्त के मौके पर राष्ट्रपति पुलिस पदक से नवाजा जाएगा.
Nitesh Saini
Nitesh Saini | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 14, 2019, 7:42 PM IST
मंडी जिला के सुंदरनगर पुलिस में बतौर एसएचओ तैनात इंस्पेक्टर गुरबचन सिंह रणौत को डीएसपी (DSP) पदोन्नति के बाद एक और तोहफा मिला है. जानकारी के अनुसार डीएसपी गुरबचन सिंह रणौत को भारत सरकार के गृह विभाग द्वारा इस वर्ष 15 अगस्त के मौके पर राष्ट्रपति पुलिस पदक (President police Medal) से नवाजा जाएगा. वहीं गृह विभाग द्वारा प्रदेश पुलिस के अन्य दो अधिकारियों बहादुर सिंह व मनोज कुमार को भी राष्ट्रपति पुलिस पदक से सम्मानित किया गया है. डीएसपी गुरबचन सिंह रणौत को यह सम्मान उनके द्वारा पुलिस सेवा के दौरान उत्कृष्ठ कार्यों को लेकर दिया गया है.

ट्रेनिंग के दौरान हमेशा अव्वल रहे

Gurbachan-Dsp-डीएसपी गुरबचन सिंह रणौत
डीएसपी गुरबचन सिंह रणौत को यह सम्मान उनके द्वारा पुलिस सेवा के दौरान उत्कृष्ठ कार्यों को लेकर दिया गया है.


डीएसपी गुरबचन सिंह रणौत पुलिस विभाग में प्रत्येक ट्रेनिंग के दौरान हमेशा अव्वल ही रहे. गुरबचन सिंह अखिल भारतीय स्तर की पुलिस ट्रेनिंग में देश के अन्य राज्यों से आए हुए पुलिस अधिकारियरों को पछाड़ कर प्रथम स्थान भी पा चुके हैं. गुरबचन सिंह रणौत ने कहा कि उनका जन्म गांव ठडोह, डाकघर भटवाड़ा, तहसील घुमारवीं, जिला बिलासपुर में हुआ था.

1984 में शुरू की पुलिस की नौकरी

गुरबचन सिंह ने कहा कि देश के प्रति कार्य करने की इच्छा और जनून के कारण पुलिस में भर्ती होने का मन बनाया. उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा पास कर प्रदेश पुलिस में अपना सफर बतौर आरक्षी फस्ट बटालियन जुंगा से वर्ष 1984 में शुरू किया. इसके उपरांत वर्ष 1988 से 2003 तक बतौर ट्रेनिंग इंस्ट्रक्टर तैनात रहे.

एएसआई के तौर पर मिली वर्ष 2003 में पदोन्नति
Loading...

वर्ष 2003 में उन्हें बतौर एएसआई के तौर पर पदोन्नति मिली और वर्ष 2007 में पालमपुर पुलिस थाना में तैनात रहे. इसके उपरांत वर्ष 2008 में बतौर एसआई के पद पर पदोन्नति प्राप्त कर कुल्लू सदर पुलिस स्टेशन में तैनाती पाई. उन्होंने कहा कि वर्ष 2008-2011 तक एसएचओ आनी के तौर पर अपनी सेवाएं प्रदान की.

उनके कार्यकाल में मिला सुंदरनगर थाने को बेस्ट पुलिस स्टेशन का अवार्ड

गुरबचन सिंह के सुंदरनगर थाना में बतौर एसएचओ कार्यकाल के दौरान प्रदेश सरकार द्वारा थाना को वर्ष 2017-2018 के लिए बेस्ट पुलिस स्टेशन के अवार्ड से भी नवाजा गया है. धर्मशाला में आयोजित एक कार्यक्रम में प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और प्रदेश पुलिस डीजीपी द्वारा ट्राफी और 10 हजार नकद इनाम से नवाजा गया था.

नौकरी शुरू करने के बाद बीए तक की पढ़ाई

गुरबचन सिंह ने कहा कि पुलिस विभाग की विभिन्न ट्रेनिंग के दौरान हमेशा उत्कृष्ठ प्रदर्शन किया है. उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग में सेवाएं देने के साथ-साथ अपनी पढ़ाई को आगे बढ़ाते हुए स्नातक की डिग्री प्राप्त की. वही उन्होंने कहा की मई 2017 से सुंदरनगर थाना प्रभारी का कार्यकाल बहुत अच्छा रहा यहां के लोगो सहयोग लगातर प्राप्त हुआ.

अगर जनता को हो सहयोग तो जड़ से ख़त्म हो सकता है नशा

गुरबचन सिंह ने बताया कि डीएसपी पद पर विराजमान होने के बाद प्रदेश में बढ़ रहे नशा तस्करों और युवाओं में बढ़ रहे नशे के प्रभाव को लेकर कड़ा अभियान छेड़ा जाएगा. उन्होंने कहा कि अभिभावक और स्थानीय लोग अगर पुलिस का सहयोग करें तो नशे को जड़ से खत्म किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें:  मनाली से यमुनानगर जा रही बस में सवार व्यक्ति को पुलिस ने 165 ग्राम चरस के साथ पकड़ा

हिमाचल के बद्दी के ड्रग इंस्पेक्टर गिरफ्तार, CBI ने दबोचा
First published: August 14, 2019, 7:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...