लाइव टीवी

फिसड्डी साबित हुए हिमाचल के चारों सांसद, कांग्रेस लोकसभा प्रत्याशी रहे आश्रय शर्मा ने ली चुटकी

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 29, 2020, 7:26 PM IST
फिसड्डी साबित हुए हिमाचल के चारों सांसद, कांग्रेस लोकसभा प्रत्याशी रहे आश्रय शर्मा ने ली चुटकी
लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के प्रत्याशी रहे आश्रय शर्मा ने कहा कि सांसद निधि न खर्च करना हिमाचल की जनता के साथ नाइंसाफी है.

लोकसभा से कांग्रेस प्रत्याशी रहे आश्रय शर्मा (Ashray Sharma) ने हिमाचल के चारों सांसदों की ओर से आठ माह में सांसद निधि (MP Fund) न खर्च किए जाने पर चुटकी ली है. उन्होंने कहा कि यह हिमाचल की जनता के साथ नाइंसाफी ही है.

  • Share this:
मंडी. लोकसभा से कांग्रेस प्रत्याशी रहे आश्रय शर्मा (Ashray Sharma) ने हिमाचल के चारों सांसदों की ओर से आठ माह में सांसद निधि (MP Fund) न खर्च किए जाने पर चुटकी ली है. उन्होंने कहा कि यह हिमाचल की जनता के साथ नाइंसाफी ही है कि प्रदेश की जनता ने पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के नाम पर हिमाचल के चार सांसदों को भारी समर्थन दिया. इनमें से एक केंद्रीय राज्य मंत्री भी बने. आश्रय शर्मा ने हैरानी जताई है कि आठ माह के दौरान हिमाचल के चारों सांसद अपनी सांसद निधि का सदुपयोग अभी तक नहीं कर पाए हैं.

'सांसद रामस्वरूप विकास करने में असफल रहे'

उन्होंने मंडी से सांसद रामस्वरूप शर्मा (Ramswarup Sharma) पर टिप्पणी करते हुए कहा कि उनके पास इलाके का विकास करवाने के लिए न तो फुर्सत है और न ही जरूरत है. यही कारण है कि वह दिन-रात मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की स्तुति गान करते हैं, लेकिन काम के नाम पर पूरी तरह फिसड्डी साबित हुए हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी जनता के एजेंडे पर काम करती है. उन्होंने कहा कि पूरा मंडी लोकसभा क्षेत्र प्रदेश के सबसे दुर्गम व ट्राइबल इलाकों में से एक माना जाता है और यहां पर विकास की बहुत अधिक जरूरत है. विकास हर विधानसभा, हर गांव, हर पंचायत स्तर पर होनी है, लेकिन पीएम मोदी के नाम पर दूसरी बार चुने हुए प्रतिनिधि रामस्वरूप शर्मा किसी भी तरह का विकास करवाने में पूरी तरह विफल नजर आ रहे हैं.

आश्रय शर्मा ने कहा कि जनता के 20 करोड़ रुपये वापस हो जाएंगे. यह सीधे तौर पर जनता का नुकसान है. आश्रय ने कहा कि इस मुद्दे को जनता के बीच में ले जाएंगे और जनता के हक की लड़ाई लड़ी जाएगी. उन्होंने आरोप लगाया है कि कोटली कॉलेज के लिए जारी हुई पहली किश्त 75 लाख रुपये को डायवर्ट किया गया है. उन्होंने सदर की जनता के साथ भेदभाव का आरोप लगाया है.

ये भी पढ़ें - शुक्रवार से प्रदेश में 10 हजार से ज्यादा बैंक कर्मी दो दिवसीय हड़ताल पर रहेंगे

ये भी पढ़ें - खत्म हो जाएगा सब्जी मंडियों में आढ़तियों का रोल,ओपन मार्केट को मिलेगा बढ़ावा

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 29, 2020, 7:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर