जनमंच में अपने ही गढ़ में BJP विधायक अनिल शर्मा पर फूटा लोगों का गुस्सा

भाजपा विधायक अनिल शर्मा ने कहा कि उन्हें जनमंच के लिए निमंत्रण मिला था और उन्होंने जनमंच में अपनी भागीदारी सुनिश्चित की है.

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 17, 2019, 11:09 AM IST
जनमंच में अपने ही गढ़ में BJP विधायक अनिल शर्मा पर फूटा लोगों का गुस्सा
जनमंच के दौरान मंत्री महेंद्र सिंह के साथ बैठे अनिल शर्मा.
Virender Bhardwaj
Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 17, 2019, 11:09 AM IST
पंडित सुखराम के गढ़ कोटली में आयोजित जनमंच में पूर्व मंत्री व सदर विधायक अनिल शर्मा को सड़क निर्माण को लेकर करनाल गांव के ग्रामीणों की खरी खोटी सुननी पड़ी. जनमंच में उक्त ग्रामीणों का खूब गुस्सा फूटा. हालांकि, सदर विधायक अनिल ने ग्रामीणों की सड़क समस्या को लेकर उन्हें जवाब भी देना चाहा, लेकिन ग्रामीणों ने एक न सुनी. मामला हिमाचल के मंडी जिले का है. इसके बाद में मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने हस्तक्षेप करते हुए मामला शांत करवाया और अधिकारियों को भी इस तरह के मामलों में लापरवाही पर लताड़ लगाई.

विधायक पर लगाया अनदेखी का आरोप
कोटली में आयोजित जनमंच में करनाल गांव के लोगों ने विधायक अनिल शर्मा को खूब घेरा. उन पर अनदेखी का आरोप लगा डाला. सड़क निर्माण को लेकर फारेस्ट क्लीयरेंस करवाने के तर्क के साथ अनिल ने जमीन न देने की बात कही, लेकिन ग्रामीण ने रजिस्ट्री तक के कागज होने के दलील दे डाली. इस बीच शिकायतकर्ता ग्रामीण ने यहां तक कह डाला कि वह कट्टर कांग्रेसी थे, लेकिन जब नीयत बदनीयत हो जाये तो दुनिया पलट जाती है.

1989 से नहीं निकली सड़क

ग्रामीणों ने कहा कि यदि नए मंत्री कहेंगे काम होगा तो हमें इस पर विश्वास है, लेकिन आपने (अनिल शर्मा) ने तुंगल घाटी में कोई विकास नहीं किया. उक्त शिकायतकर्ता का कहना था कि क्लोथर से करनाल के लिए 1989 से आज दिन तक सड़क नहीं निकल पाई है. उन्हें मात्र आश्वासन पर आश्वासन ही मिल रहे हैं. उन्होंने महेंद्र सिंह से आग्रह किया कि यदि वह उनके गांव के लिए सड़क निकाल देते हैं तो वह उन्हें गांव तक कार के बजाये पालकी में लेकर जाएंगे

अपने ही गढ़ में घिरने लगे अनिल शर्मा
बता दें कि पंडित सुखराम के गृह क्षेत्र में ही अब ग्रामीण उनके बेटे अनिल शर्मा के खिलाफ खुलकर सार्वजनिक तौर पर बोलने लगे हैं. यह इलाका पंडित सुखराम का गढ़ माना जाता है, लेकिन ग्रामीणों का आक्रोश अब फूटता नज़र आ रहा है. लोकसभा चुनाव में भी पंडित सुखराम के पौते व कांग्रेस प्रत्याशी को अपने इलाके से भी बढ़त नहीं मिल पाई थी.
Loading...

एक मंच पर महेंद्र सिंह और अनिल शर्मा
रोचक यह रहा कि चुनाव के दौरान एक दूसरे के खिलाफ तीख़ी जुबानी जंग लड़ने वाले दो नेता एक मंच पर एक साथ बैठे. जनमंच की अध्यक्षता आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर कर रहे थे, जबकि कार्यक्रम के बीच में अनिल शर्मा भी पहुंच गए और उन्होंने महेंद्र सिंह के साथ मंच साझा किया. नौनिहालों को पौधे बांटने के दौरान भी अनिल शर्मा आइपीएच महेंद्र सिंह के साथ खड़े रहे और कार्यक्रम में अपनी भागीदारी सुनिश्चित की.

महेंद्र सिंह से मिलाया हाथ
जनमंच में मंत्री महेंद्र सिंह ने विधायक अनिल शर्मा के साथ हाथ मिलाया और उनके साथ बैठे भाजपा पदाधिकारी डीडी ठाकुर ने अपनी सीट छोड़ी. बता दें कि लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान कोटली में ही आयोजित जनसभा में मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने पंडित सुखराम व उनके बेटे के खिलाफ जमकर तीखी टिप्पणियां की थी. भाजपा विधायक अनिल शर्मा ने कहा कि उन्हें जनमंच के लिए निमंत्रण मिला था और उन्होंने जनमंच में अपनी भागीदारी सुनिश्चित की है.

ये भी पढ़ें: जीनत के मां-बाप ने किन्नर होने पर छोड़ा, उसने गोद ली बेटी...

कांगड़ा के लिए नीदरलैंड के साथ 800 करोड़ का हुआ एमओयू

अब घरेलू बाजार में मिलेंगे हिमाचली सेब को अच्छे दाम

NGT के नियमों को ताक पर रख रोहतांग पहुंच रही 4000 टैक्सियां

इस तालाब में राजा करते थे अठखेलियां, अब कीचड़ में तब्दील
First published: June 17, 2019, 11:05 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...