हिमाचल के वाहन चालक सावधान! मंडी में ट्रैफिक रूल तोड़ा तो सीधे घर पहुंचेगा डिजिटल चालान

सीएम जयराम ठाकुर ने शुरू किया ई चालान सिस्टम, नियम तोडऩे वालों के घर पहुंचेगा चालान

सीएम जयराम ठाकुर ने शुरू किया ई चालान सिस्टम, नियम तोडऩे वालों के घर पहुंचेगा चालान

मंडी शहर में पुलिस वाले कम और सीसीटीवी कैमरे ज्यादा चालान काटेंगे. मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा कुछ समय पूर्व पुलिसलाइन मंडी में शुरू किए गए इंटेग्रेटिड ट्रेफिक मैनेजमेंट सिस्टम को मंगलवार से शहर में लागू कर दिया गया है.

  • Share this:
मंडी. अगर आप मंडी शहर में गाड़ी चला रहे हैं और यह सोच रहे हैं कि पुलिस को चकमा देकर यातायात नियमों का उल्लंघन कर देंगे तो अब इस बात को भूल जाईए. क्योंकि अब मंडी शहर में पुलिस वाले कम और सीसीटीवी कैमरे ज्यादा चालान काटेंगे. मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा कुछ समय पूर्व पुलिसलाइन मंडी में शुरू किए गए इंटेग्रेटिड ट्रैफिक मैनेजमैंट सिस्टम को मंगलवार से शहर में लागू कर दिया गया है. एनआईसी और वाहन ऐप के साथ इसे पूरी तरह से जोड़ने के बाद अब इसे सुचारू रूप दे दिया गया.

पुलिसलाइन मंडी में इसका कंट्रोल रूम बनाया गया है, जहां पर 24 घंटे एक टीम बैठकर यह मॉनिटर करेगी कि कौन वाहन चालक यातायात नियमों की अवहेलना कर रहा है. जैसे ही आपने यातायात नियमों की अवहेलना की, वैसे ही आपका चालान सीधे आपके मोबाईल फोन पर मैसेज के माध्यम से पहुंच जाएगा. यातायात नियमों में हर प्रकार के चालान काटने का प्रावधान इस व्यवस्था के तहत किया गया है. फिर चाहे आप ओवर स्पीड हों, बिना हेल्मेट, नो पार्किंग या फिर गलत ओवरटेक कर रहे हों. एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि यह व्यवस्था आज से शहर में लागू कर दी गई है.

यही नहीं पुलिस के इस सिस्टम से शहर में पैदल चलने वालों को भी सुरक्षा मिलेगी. हालांकि गुनहगारों को पकड़ने के लिए यह सिस्टम पहले से ही कार्य कर रहा है, लेकिन चालान वाली व्यवस्था इसमें अब शामिल की गई है. एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि शहर के लोगों को 15 दिनों तक सिर्फ अलर्ट के संदेश आएंगे और उन्हें सिर्फ सूचित किया जाएगा. जबकि 20 मई के बाद चालान जनरेट होना शुरू हो जाएंगे. यह चालान ट्रैफिक एक्ट के तहत ही होंगे.

बता दें कि इस सिस्टम के साथ अब भारत सरकार की वाहन वेबसाइट का सारा डाटा लिंक कर दिया गया है. कैमरे आपकी गाड़ी की नंबर प्लेट को स्कैन करेंगे और वहां पर गाड़ी की सारी डिटेल आ जाएगी, जिसके आधार पर ही चालान जनरेट होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज