लाइव टीवी

अंतरराष्ट्रीय खेल जूडो की अनदेखी पर जिला जूडो संघ ने जतायी चिंता

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 18, 2020, 4:23 PM IST
अंतरराष्ट्रीय खेल जूडो की अनदेखी पर जिला जूडो संघ ने जतायी चिंता
मंडी जिला में केवल आठ से दस शारीरिक शिक्षक जूडो खेल से प्रशिक्षित हैं. 

हिमाचल के बेहद कम स्कूलों में जूडो (Judo) प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक हैं. जूडो अंतरराष्ट्रीय खेल है. ऐसे में खिलाड़ी नेशनल के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए अपनी प्रतिभा दिखा सकते हैं.

  • Share this:
मंडी. अंतरराष्ट्रीय खेल जूडो (Judo) की हिमाचल के सरकारी स्कूलों में अनदेखी पर मंडी (Mandi) जिला जूडो संघ ने चिंता जाहिर की है. ओलंपिक गेम जूडो के सरकारी स्कूलों में शारीरिक प्रशिक्षण शिक्षक ही नहीं है. मंडी जिला की बात की जाए तो केवल आठ से दस शारीरिक शिक्षक जूडो खेल से प्रशिक्षित हैं. ऐसे में खिलाड़ी जूडो खेल से जुड़ नहीं पा रहे हैं. जबकि जूडो खेल के तहत उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों के लिए सरकारी नौकरी में आरक्षण (Reservation in government job) का प्रावधान भी है.

बेहद कम स्कूलों में हैं जूडो प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक

मंडी जिला जूडो संघ के प्रधान अंकुश ने बताया कि हिमाचल में जूडो खेल 1990 से चल रहा है. इस खेल को स्कूलों में भी शामिल कर लिया गया है, लेकिन स्कूलों में जूडो प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक ही नहीं हैं. बेहद कम ही स्कूलों में जूडो प्रशिक्षित शारीरिक शिक्षक हैं. जूडो संघ का प्रयास रहेगा कि मंडी जिला में शारीरिक प्रशिक्षण शिक्षक को जोड़कर बच्चों को सुविधा प्रदान की जाए. उन्होंने कहा कि सरकार के समक्ष भी शारीरिक प्रशिक्षण शिक्षक के लिए जूडो खेल प्रशिक्षण का मामला उठाया जाएगा. उन्होंने कहा कि जूडो खेल के तहत करीब 200 खिलाड़ी स्पोर्टस कोटे के तहत सरकारी नौकरी प्राप्त कर चुके हैं. जूडो अंतरराष्ट्रीय खेल है. ऐसे में खिलाड़ी नेशनल के बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए अपनी प्रतिभा दिखा सकते हैं.

सेल्फ डिफेंस का गेम है जूडो

जूडो संघ के प्रधान अंकुश सूद ने अभिभावकों से आह्वान किया है कि इस गेम के साथ जुडें और बच्चों को भी प्रेरित करें. उन्होंने कहा कि यह गेम सेल्फ डिफेंस का गेम है और बच्चों को इससे जुड़कर कई तरह के फायदे हो सकते हैं. बता दें कि मंडी जिला जूडो संघ के शनिवार को चुनाव भी हुए, जिसमें अंकुश सूद को प्रधान, बृज लाल चौहान को वरिष्ठ उपाध्यक्ष, राकेश कुमार व देविंद्र कुमार आजाद को उपाध्यक्ष, सदस्य चुना गया.

ये भी पढ़ें - सिरमौर : गो सदन में लगी प्रदेश की पहली Cow dung logs बनाने की मशीन

ये भी पढ़ें - किन्नौर : बर्फबारी से जनजीवन अस्त-व्यस्त, किसानों के चेहरे खिले

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 18, 2020, 4:23 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर