मंडी में बनेगा हिमाचल का पहला मॉडल नशा मुक्ति और पुनर्वास केंद्र, संचालन को हरी झंडी

हिमाचल का मंडी शहर.
हिमाचल का मंडी शहर.

Drug Di-addiction center in Mandi: डा. पाठक ने बताया कि स्टेट मेंटल हेल्थ की तरफ से मंडी, शिमला और चंबा में एक मोबाईल सर्वे किया जा रहा है. इसके लिए दो लाख लोगों का चयन किया गया है, जिन्हें 9 सवालों वाली एक प्रश्नावली भेजी जाएगी

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2020, 8:58 AM IST
  • Share this:
मंडी. हिमाचल प्रदेश के मंडी शहर (Mandi City) के साथ लगते रघुनाथ का पधर में प्रदेश का पहला सरकारी क्षेत्र का मॉडल नशा मुक्ति और पुनर्वास केंद्र (Drug Di-addiction center) स्थापित किया जाएगा. स्टेट मेंटल हेल्थ के सीईओ डा. संजय पाठक ने चयनित स्थान का दौरा करने के बाद इसके संचालन के लिए हरी झंडी दे दी है. दौरे के बाद डा. पाठक ने बताया कि प्रदेश में अभी 70 नशा मुक्ति एवं पुनर्वास केंद्रों का संचालन हो रहा है, जिन्हें एनजीओ (NGO) के माध्यम से चलाया जा रहा है.

पहला सरकारी क्षेत्र का केंद्र होगा
मंडी में प्रदेश का पहला सरकारी क्षेत्र का केंद्र खोला जाएगा. रघुनाथ का पधर में पहले से भवन की सुविधा मौजूद है और यहां आधारभूत ढांचे के लिए 30 लाख रूपए खर्च करके अगले तीन महीनों के भीतर इसका संचालन शुरू कर दिया जाएगा. यहां 25 मरीजों को रखने की व्यवस्था होगी और प्रति मरीज को 60 से 100 स्क्वेयर फीट जगह का प्रावधान होगा. वहीं उनके लिए अलग से डॉक्टर, स्टाफ नर्स, कांउसलर, डाईट, खेलकूद और मेंटल स्ट्रेस से निजात दिलाने के लिए हर प्रकार की सुविधाएं मौजूद होंगी.

केंद्र का संचालन शुरू होने के बाद निजी क्षेत्र में चल रहे केंद्रों को भी इसी तर्ज पर अपने केंद्र विकसित करने को कहा जाएगा. उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार दो मॉडल केंद्र बनाना चाहती है, जिसमें पहला मंडी में खोला जाएगा जबकि दूसरा कहां खोलना है इसपर सरकार विचार कर रही है.
तीन जिलों में मोबाईल सर्वे किया


डा. पाठक ने बताया कि स्टेट मेंटल हेल्थ की तरफ से मंडी, शिमला और चंबा में एक मोबाईल सर्वे किया जा रहा है. इसके लिए दो लाख लोगों का चयन किया गया है, जिन्हें 9 सवालों वाली एक प्रश्नावली भेजी जाएगी और उन्होंने उसका जबाव हां या न में देना है. इससे पता चलेगा कि कोविड काल के दौरान कहीं लोग मेंटल स्ट्रेस में तो नहीं आ गए. उन्होंने ऐसे सभी लोगों से अपना जबाव देने का आग्रह किया है, जिन्हें यह मेसेज आएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज