• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • मंडी में चुनाव प्रचार के दौरान बुजुर्ग महिला ने नेहरू के पांव छूने की थी कोशिश तो उन्होंने ये कहा...

मंडी में चुनाव प्रचार के दौरान बुजुर्ग महिला ने नेहरू के पांव छूने की थी कोशिश तो उन्होंने ये कहा...

File Photo: पंडित जवाहार लाल नेहरू

File Photo: पंडित जवाहार लाल नेहरू

मंडी के पड्डल मैदान पर लगे मंच पर पहुंचने के क्रम में एक बुजुर्ग महिला ने जवाहर लाल नेहरू के पांव छूने की कोशिश भी की थी, लेकिन नेहरू ने उनसे कहा- 'माता हम सब आजाद हैं और सब एक हैं.’

  • Share this:
देश के पहले आम चुनाव यानि 1952 में जवाहर लाल नेहरू वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण कुमार नूतन के प्रचार के लिए हिमाचल प्रदेश के मंडी पहुंचे थे. नेहरू यहां कांग्रेस की प्रत्याशी राजकुमारी अमृता कौर के प्रचार के लिए आए थे. वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण कुमार नूतन नेहरू का मंडी दौरा कवर कर रहे थे. कृष्ण कुमार नूतन मंडी से शक्ति नामक पत्रिका का प्रकाशन करते थे. मंडी के पड्डल मैदान पर लगे मंच पर पहुंचने के क्रम में एक बुजुर्ग महिला ने जवाहर लाल नेहरू के पांव छूने की कोशिश भी की थी, लेकिन नेहरू ने उनसे कहा- 'माता हम सब आजाद हैं और सब एक हैं.’ कृष्ण कुमार नूतन बताते हैं कि आज दिन तक उन्होंने किसी प्रधानमंत्री की इतनी सादगी नहीं देखी. प्रधानमंत्री तो दूर की बात आज के दौर में किसी मंत्री से भी इस प्रकार की सादगी की अपेक्षा नहीं की जा सकती है.

यह भी पढ़ें: पहले आम चुनाव प्रचार के लिए मंडी आए थे नेहरू, भीड़ में धक्के खाते हुए मंच पर पहुंचे

पंडित नेहरू के साथ उनकी बेटी इंदिरा गांधी भी मौजूद थी और उस वक्त वह काफी कम उम्र की थी. नूतन बताते हैं कि पड्डल मैदान में जनसभा को संबोधित करने से पहले नेहरू चाय पीने चले गए. इस दौरान मंच संचालन कर रहे किशन चंद ने उपस्थित लोगों से आग्रह किया कि जैसे ही नेहरू जी मंच पर आएं तो उनकी जिंदाबाद के नारे लगाए जाएं. यह बात चाय पीते वक्त नेहरू जी ने सुन ली और जब वह मंच पर आए तो किसी को भी नारे नहीं लगाने दिए. उन्होंने कहा कि हम सब एक हैं और मेरी प्रशंसा की कोई जरूरत नहीं है.

हालांकि उस दौर में सिर्फ कांग्रेस पार्टी का ही एकछत्र राज था लेकिन फिर भी नेहरू यहां से प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार करने पहुंचे. बताया जाता है कि मंडी और पटियाला के राज परिवारों के साथ नेहरू के काफी घनिष्ठ संबंध थे जिसके चलते वह यहां पर प्रचार के लिए आए थे.

हालांकि पहले मंडी के राजा जोगिंद्र सेन को यहां से चुनाव लड़ने का न्योता दिया गया था लेकिन उन्होंने पटियाला राजघराने के साथ अपनी रिश्तेदारी के फर्ज को निभाते हुए उन्हें चुनाव लड़ने का मौका दिया. रानी अमृत कौर न सिर्फ यहां से पहली सांसद और महिला सांसद चुनकर गई बल्कि देश की पहली स्वास्थ्य मंत्री भी बनीं, जो कि मंडी संसदीय क्षेत्र के लिए गौरव की बात है.

नूतन बताते हैं कि इसके बाद देश ने कई आम चुनाव देखे और फिर मंडी में कई नेताओं का आना हुआ. इंदिरा गांधी, अटल बिहारी वाजपेयी, लाल कृष्ण आडवाणी, सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई बार मंडी आकर चुनावी जनसभाओं को संबोधित कर चुके हैं, लेकिन बदलते वक्त के साथ बहुत कुछ बदला और के दौर में होने वाले चुनावों का स्वरूप सभी के सामने है.

यह भी पढ़ें: चौकीदार जयराम ठाकुर न करें चिंता, कांग्रेस जिताऊ प्रत्याशी उतारेगी: कुलदीप राठौर

कुल्लू के डीसी यूनुस ने की बड़ी कार्रवाई, इस प्ले स्कूल को बंद करने के दिए आदेश

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज