लाइव टीवी

पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर कर्मचारी सड़कों पर करेंगे धरना प्रदर्शन

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: October 20, 2019, 5:37 PM IST
पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर कर्मचारी सड़कों पर करेंगे धरना प्रदर्शन
कर्मचारियों ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें पूरी जिंदगी काम के बदले में मात्र कुछ हजार रुपए की पेंशन दी जा रही है.

खुद की सैलरी और भत्ते तो नेता हर साल बढ़ाते हैं. सभी नेता रिटायर होने के बाद भी भारी भरकम पेंशन लेते हैं, लेकिन पूरी उम्र काम करने वाले कर्मचारियों को सरकार पेंशन देने से कतरा रही है.

  • Share this:
मंडी. पुरानी पेंशन बहाली (Restoration of old Pension) के लिए प्रदेश के कर्मचारी किसी भी हद तक जाने को तैयार हो गए हैं. अब कर्मचारियों ने सरकार से आमना सामना करने का कड़ा फैसला भी ले लिया है. पुरानी पेंशन बहाली के लिए कर्मचारियों ने आने वाले समय में बड़े आंदोलन (Agitation) करने, कामकाज बंद करने, सड़कों पर उतर कर धरना (Dharna) प्रदर्शन (Demonstration) करने तक का फैसला लिया है. सरकारी कर्मचारियों ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि वेतन भत्ता बढ़ाने के लिए सभी नेता नए कानून बनाने में देर नहीं लगाते, लेकिन कर्मचारियों को पूरी जिंदगी काम के बदले में मात्र कुछ हजार रूपए की पेंशन दी जा रही है.

कर्मचारियों ने कहा कि यह उनके साथ सरेआम धोखा है. इसके लिए प्रदेश के लाखों कर्मचारी आने वाले समय में सरकार के खिलाफ हर प्रकार से अपने दांव पेंच लड़ाने की कोशिश करेंगे. कर्मचारियों का कहना है कि पेंशन हमारा संवैधानिक अधिकार है और वे उसे हर हाल में लेकर रहेंगे.

इसी कड़ी में मंडी में न्यू पेंशन स्कीम कर्मचारी संघ का एक सम्मेलन आयोजित किया गया. इसमें मंडी जिला के 13 खंडों में से अधिकतर खंडों से आए प्रतिनिधि मंडलों ने भाग लिया. इस दौरान मंडी जिला की नई कार्यकारिणी का गठन भी किया गया. इसमें वन विभाग में तैनात प्रदीप ठाकुर को एक बार फिर
जिला के प्रधान का दायित्व सौंपा गया है. यह प्रक्रिया कुल्लू से आए तीन पर्यवेक्षकों के समक्ष संपन्न हुई.

कर्मचारियों ने चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार उनमें पनपे रोष को समझे नहीं तो आने वाले समय में इसका खमियाजा भुगतना पड़ेगा.


'पेंशन कोई भीख नहीं है, हमारा संवैधानिक अधिकार है'

सम्मेलन में नेशनल मूवमेंट फॉर ओल्ड पेंशन स्कीम के सलाहकार व प्रदेश न्यू पेंशन स्कीम कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष नरेश ठाकुर विशेष तौर पर मौजूद रहे. नरेश ठाकुर ने कहा कि पेंशन कोई भीख नहीं है जो हम सरकार से मांग रहे हैं. उन्होंने कहा कि यह हमारा संवैधानिक अधिकार है और इसे हम हर हाल में
Loading...

लेकर ही रहेंगे.

सरकार पर कर्मचारियों के साथ सौतेला व्यवहार का आरोप

इसके साथ ही फिर से जिला प्रधान चुने गए प्रदीप ने सरकार पर कर्मचारियों के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया. उन्होंने नेताओं पर तंज कसते हुए कहा कि खुद की सैलरी और भत्ते तो नेता हर साल बढ़ाते हैं. सभी नेता रिटायर होने के बाद भी भारी भरकम पेंशन लेते हैं, लेकिन पूरी उम्र काम करने वाले कर्मचारियों को सरकार पेंशन देने से कतरा रही है. उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार कर्मचारियों में पनपे रोष को समझे नहीं तो आने वाले समय में सरकार को इसका खमियाजा भुगतना पड़ेगा. जिला की कार्यकारिणी में विजय कुमार, प्रवीन धिमान, टेक चंद, मंजुला वर्मा, भारती व अन्य को चुना गया.

ये भी पढ़ें  - सिड्डू बना पर्यटकों का पसंदीदा भोजन, देसी घी और चटनी के साथ खाते हैं

ये भी पढ़ें - मंडी : HRTC बस में सवार युवक के पास से 32.79 ग्राम चिट्टा बरामद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 20, 2019, 5:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...