Mandi: जगल-घासनी में लगी आग से गौशाला भी जली, ग्रामीणों ने बचाए मवेशी

धर्मपुर के सकलाना गांव में लगी आग.

धर्मपुर के सकलाना गांव में लगी आग.

Fire in Dharampur: मंडी जिले के धर्मपुर इलाके में दो दिन से जंगल में आग लगी हुई है, लेकिन वन विभाग ने आग बुझाने की जहमत नहीं उठाई है.

  • Share this:
धर्मपुर (मंडी). हिमाचल प्रदेश के मंडी (Mandi) जिले में धर्मपुर उपमंडल के सकलाना पंचायत के अंतर्गत पड़ते गांव गहरा के आसपास के जंगल और घासनी में लगी आग ने 2 दिन से तांडव मचाया हुआ है. आगजनी (Fire) के इस तांडव में गांव गहरा निवासी राजमल की गौशाला राख हो गई. वहीं गौशाला में बंधे मवेशियों को ग्रामीण भूप सिंह, सुरेश कुमार, प्रिंस ठाकुर, सोहन सिंह, अनिल कुमार ने जान की परवाह किए बगैर कड़ी मशक्कत के बाद बाहर निकाला. आग जंगल और घासनी में 2 दिन से सुलग रही है, पर फॉरेस्ट डिर्पाटमैंट के कर्मचारियों के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही. शुक्रवार को पूरा दिन आग बुझाने के लिए ग्रामीण भागते रहे और बड़ी मुश्किल से गांव को आग से हवाले से बचाया, पर रात को चिंगारी ने गौशाला को चपेट में ले ही लिया.

हर साल लगती है आग

गांव गहरा निवासी गॢमयां आते ही आगजनी की ऐसी घटनाओं से सहमे रहते हैं. हर साल दूसरे गांवों के लोग अपनी घासनी में आग लगाकर भाग जाते हैं और नुक्सान गहरा गांवों के बांशिंदों को उठाना पड़ता है. ऐसा नहीं है कि इस बारे में फॅरेस्ट विभाग के अधिकारियों को शिकायत नहीं की जाती, पर हमेशा ही वे अनुसना कर देते हैं. हर साल यह आगजनी का सिलसिला चलता रहता है.

महिला की हुई थी मौत
आगजनी की ऐसी घटना में कुछ साल पहले एक महिला झुलस गई थी और उनकी ईलाज के दौरान आईजीएमसी में मौत हो गई थी, पर उसके बाद भी विभाग जाग नहीं रहा है और आग लगाने वालों पर कोई भी कार्रवाई नहीं कर रहा है. आगजनी की इस घटना के बाद रात को अपने आपको फॉरेस्ट विभाग के कर्मचारी बताने वाले कुछ लोग पहुंचे तो थे, पर तमाशबीन बनकर और सुबह कोई कार्रवाई कहने की बात कहकर वहां से चलते बने. ग्रामीणों ने जब उनसे सवाल किया तो उनके बहाने हजार थे. थके-हारे ग्रामीण रात भर धधकती गौशाला के पास पहरा लगाकर बैठे रहे, ताकि दूसरी गौशाला तक चिंगारी न पहुंच पाए.

आग लगाने वालों पर हो कड़ी कार्रवाई

गांव की मैंबर सरोजा देवी ने बताया कि गांव के लोग पिछले कई दिनों से आग के साय में जिंदगी व्यतीत कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि शुक्रवार को किसी ने घासनी में आग लगा दी और यह आग पूरे गांव के आसपास धधकती रही और गांव गहरा की पूरी घासनी राख हो गई. पूरा दिन आग बुझाने के बाद रात लगभग 9 बजे राजमल की गौशाला जलकर राख हो गई. उन्होंने विभाग से मांग की है कि जिन्होंने भी आग लगाई है उनकी पहचान की जाए और कड़ी कार्रवाई की जाए, ताकि ऐसा करने वालों को सबक मिल सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज