लाइव टीवी

फिर विवादों में IIT मंडी: PR एजेंसी पर हर महीने लुटाए पौने दो लाख रुपये
Mandi News in Hindi

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 21, 2020, 12:26 PM IST
फिर विवादों में IIT मंडी: PR एजेंसी पर हर महीने लुटाए पौने दो लाख रुपये
आईआईटी मंडी समय-समय पर विवादों में घिरी रहती है.

IIT Mandi in Controversy: पूर्व कर्मचारी सुजीत स्वामी का कहना है कि घोटालों और घपलों को छुपाने के लिए आईआईटी ने जिस पीआर एजेंसी को हायर किया है, उसपर जनता के पैसों को लुटाया जा रहा है.

  • Share this:
मंडी. भाई-भतीजावाद और गोलमाल के आरोपों से घिरे आईआईटी मंडी (IIT Mandi) का एक और कारनामा सामने आया है. इस बार फिजूलखर्ची का कच्चा चिट्ठा आरटीआई से मिली जानकारी के माध्यम से उजागर हुआ है. खुलासा हुआ है कि आईआईटी मंडी ने जिस पीआर एजेंसी (PR Agency) को हायर किया है, उसपर हर महीने पौने दो लाख रुपये फिजूल के खर्च किए जा रहे हैं. संस्थान के ही पूर्व कर्मचारी सुजीत स्वामी ने इस संदर्भ में आरटीआई (RTI) के तहत जानकारी मांगी थी.

पहले आनाकानी कर रहा था प्रबंधन
आईआईटी मंडी ने कमर्शियल सीक्रेट बताते हुए जानकारी देने से इनकार कर दिया. सुजीत स्वामी ने इसके लिए केंद्रीय सुचना आयोग का दरवाजा खटखटाया. जब वहां से आदेश हुए तो आईआईटी ने जुलाई 2018 से लेकर नवंबर 2019 तक पीआर एजेंसी को दिए गए पैसों का जानकारी दी. इस अवधि के दौरान एजेंसी को 30 लाख 29 हजार 676 रुपये का भुगतान किया जा चुका है. अगर इसका मासिक अनुमान लगाएं तो हर महीने पीआर एजेंसी पर 1 लाख 78 हजार रुपये का भुगतान किया जा रहा है.

‘जनता का पैसा लुटया जा रहा है’



पूर्व कर्मचारी सुजीत स्वामी का कहना है कि घोटालों और घपलों को छुपाने के लिए आईआईटी ने जिस पीआर एजेंसी को हायर किया है, उसपर जनता के पैसों को लुटाया जा रहा है. संस्थान में सरकारी स्तर पर पब्लिक रिलेशन ऑफिसर तैनात है और उसे भी लाखों रुपये की सैलरी दी जा रही है. बावजूद इसके अलग से पीआर एजेंसी हायर करके जनता के पैसों की बर्बादी की जा रही है. उन्होंने केंद्र सरकार से इस पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग उठाई है.



मीडिया से कोई तालमेल नहीं
प्रेस क्लब मंडी के प्रधान अंकुश सूद ने भी इसे फिजूलखर्ची बताया है. अंकुश सूद का कहना है कि पीआर एजेंसी पत्रकारों के साथ किसी भी प्रकार का तालमेल नहीं रखती। यदि किसी पत्रकार को अपनी किसी खबर के संदर्भ में आइआइटी का पक्ष चाहिए हो या कोई अन्य जानकारी चाहिए हो तो उसे या तो समय पर उपलब्ध नहीं करवाया जाता या फिर दिया ही नहीं जाता. विशेषकर इलेक्ट्रानिक मीडिया के साथ कोई तालमेल नहीं रखा जा रहा. अंकुश सूद ने भी इस फिजूलखर्ची पर रोक लगाने और मामले की जांच करवाने की मांग उठाई है.

ये भी पढ़ें: हिमाचल में मौसम: शिमला में ताजा हिमपात, बर्फबारी से मनाली-चड़ीगढ़ हाईवे बंद

कोटखाई दुष्कर्म-मर्डर: CBI की मांग-खारिज हो IG जैदी की जमानत, डाली याचिका

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 21, 2020, 12:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading