लाइव टीवी

नैरचौक अग्निकांड: 2018 से नहीं लिया सबक, शादी वाले घर से निकली थी पांच अर्थियां

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: October 20, 2019, 4:19 PM IST
नैरचौक अग्निकांड: 2018 से नहीं लिया सबक, शादी वाले घर से निकली थी पांच अर्थियां
नैरचौक में शनिवार को आग लगने से इले​क्ट्रॉनिक आइटम का स्टोर खाक हो गया. वर्ष 2018 में यहीं एक ही परिवार के पांच लोग झुलस कर मर गए थे.

23 जुलाई 2018 को नेरचौक बाजार के एक परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा था. नैरचौक में शादी वाले घर में शहनाई बजने की जगह एक ही परिवार के पांच लोगों की अर्थियां निकली थीं.

  • Share this:
मंडी. हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में बीते शनिवार को हुई नेरचौक अग्निकांड (NairChowk Firecase) ने एक वर्ष पहले घटी खौफनाक घटना की याद ताजा करा दी. एक साल पहले नैरचौक में शादी वाले घर में शहनाई बजने की जगह एक ही परिवार के पांच लोगों की अर्थियां (Five Death in a one family) निकली थीं. 23 जुलाई 2018 को नेरचौक बाजार के एक परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा था. इस घटना के करीब सवा वर्ष बाद फिर से नेरचौक में आग का वैसा ही तांडव देखने को मिला. इस बार किसी की जान तो नहीं गई, लेकिन इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स (Electronics Items store) का स्टोर पूरी तरह से जलकर राख हो गया.

दीवाली से पहले निकला दिवाला

इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स स्टोर के मालिक सोहन लाल गुप्ता ने पाई-पाई जोड़कर जो दुकानें और घर बनाया था, सब जलकर स्वाह हो गया. वहीं इन दुकानों को स्टोर के रूप में इस्तेमाल कर रहे संजीव सूद ने दीपावली के त्योहार को लेकर जो सामान बेचने के लिए रखा था वह बेचने से पहले ही राख के ढेर में बदल गया. इन दोनों अग्निकांड की घटना के बाद फायर ब्रिगेड की कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में नजर आई.

आग बुझाने से पहले ही फायर बिग्रेड की गाड़ी में पानी खत्म हो गया

23 जुलाई 2018 को जो अग्निकांड हुआ था, उसमें भी परिवार के सदस्यों का यही आरोप था कि अगर फायर ब्रिगेड की गाड़ी समय पर पहुंच जाती तो शायद इस हादसे में नुकसान को काफी कम किया जा सकता था. 19 अक्टूबर 2019 को घटी इस घटना में भीषण आग को काबू करने के लिए मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड की एक गाड़ी खाली हो गई. आग पर काबू पानी के लिए पानी ही नहीं बचा. यही वजह है कि आग विकराल होती गई.

Fire case
नैरचौक में शनिवार को भीषण आग को काबू करने के लिए मौके पर पहुंची फायर ब्रिगेड की गाड़ी का पानी ही खत्म हो गया.


फायर ब्रिगेड की गाड़ियों के पहुंचने से पहले खाक हो चुका था स्टोर
Loading...

मौके पर मौजूद जैन इरिगेशन की पाइपलाइन से फायर ब्रिगेड की गाड़ी में पानी भरा गया. इतने में सुंदरनगर से दूसरी फायर ब्रिगेड की गाड़ी के लिए संपर्क साधा गया तो वहां गाड़ी मरम्मत करवाने गई हुई थी. आग की तपिश को भांपते हुए पूरा प्रशासन हरकत में आया और मंडी से अतिरिक्त गाड़ी मौके पर भेजने के साथ सुंदरनगर, सलापड़, पंडोह और सरकाघाट की गाड़ियां मौके पर बुलाई गई, लेकिन जब तक यहां से गाड़ियां पहुंचती तब तक राख का ढेर तैयार हो चुका था. शुक्र है कि नैरचौक में घटी इस घटना से आबादी थोड़ी दूर रहती है, अन्यथा यह नुकसान और विकराल हो जाता.

यह भी पढ़ें:  मंडी : इलेक्ट्रॉनिक आइटम के गोदाम में लगी भीषण आग, लाखों का सामान खाक

BJP सांसद सुब्रमण्यन स्वामी ने शिमला में कहा-GST को लागू करना पागलपन था

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 20, 2019, 4:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...