अपना शहर चुनें

States

सरकाघाट में कांग्रेस-भाजपा में टक्कर, निर्दलीय बिगाड़ सकते हैं खेल!

बीजेपी के प्रत्याशी कर्नल इंद्र सिंह बुजुर्ग महिला के पांव छूते हुए
बीजेपी के प्रत्याशी कर्नल इंद्र सिंह बुजुर्ग महिला के पांव छूते हुए

हिमाचल प्रदेश में मंडी जिला के सरकाघाट विधानसभा क्षेत्र में हर बार की तरह इस बार के चुनाव में मुख्य टक्कर कांग्रेस और भाजपा के बीच ही होनी तय है.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश में मंडी जिला के सरकाघाट विधानसभा क्षेत्र में हर बार की तरह इस बार के चुनाव में मुख्य टक्कर कांग्रेस और भाजपा के बीच ही होनी तय है.

इस सीट से कभी कांग्रेसी नेता रंगीला राम राव की विरासत समझी जाने वाली इस सीट से उन्हें ​ही टिकट नहीं दिया गया है. लगातार दो बार मिली हार के कारण पार्टी ने जिलाध्यक्ष और युवा नेता पवन ठाकुर को चुनावी रण में उतारा है जबकि भाजपा ने लगातार दो बार जीत चुके मौजूदा विधायक कर्नल इंद्र सिंह को फिर से मैदान में भेजा है.

हालांकि, यहां पर माकपा से मुनीश शर्मा, बसपा से राजकुमार, लोक गठबंधन पार्टी से पारो देवी और निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जगदीश चंद, मोती राम, संजीव कुमार तथा हेमराज भी चुनावी मैदान में हैं. मौजूदा मुकाबला कांग्रेस और भाजपा में ही नजर आ रहा है.



इस सीट पर बीजेपी के प्रत्याशी कर्नल इंद्र सिंह पूर्व सीएम प्रो. प्रेम कुमार धूमल के काफी करीबी हैं. वे बीते दस वर्षों से विधायक हैं. इनपर मौजूदा समय में सरकार द्वारा सरकाघाट विधानसभा क्षेत्र में विकास से जुड़ी योजनाओं में रुचि नहीं दिखाने का आरोप लगाया जा रहा है. वहीं, दूसरी ओर इंद्र सिंह का आरोप है कि पांच वर्षों में उन्होंने सदन में तो इलाके के कई मुद्दे उठाए लेकिन सरकार ने उनकी एक नहीं सुनी.
सरकाघाट विधानसभा क्षेत्र में जो आरोप प्रत्यारोपों का दौर चला है उससे हटकर अगर यहां पर चल रही चुनावी टक्कर की बात करें तो निर्दलीय प्रत्याशी इसमें अपनी अहम भूमिका निभा सकते हैं. इस विधानसभा क्षेत्र में किसी निर्दलीय प्रत्याशी किसी एक दल को नुकसान न पहुंचाकर कांग्रेस और भाजपा दोनों के वोटबैंक पर सेंध लगाने जा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज