• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • यहां खुले आसमान के नीचे तीन छोटी बच्चियों संग गुजारने को मजबूर हुआ यह परिवार

यहां खुले आसमान के नीचे तीन छोटी बच्चियों संग गुजारने को मजबूर हुआ यह परिवार

उत्तरी भारत में पड़ रही कड़कड़ाती ठंड के बीच परिवार अपनी छोटी-छोटी तीन बेटियों सहित खुले आसमान के नीचे रात गुजारने को मजबूर हो रहे हैं.

उत्तरी भारत में पड़ रही कड़कड़ाती ठंड के बीच परिवार अपनी छोटी-छोटी तीन बेटियों सहित खुले आसमान के नीचे रात गुजारने को मजबूर हो रहे हैं.

मंडी जिले की नाचन विधानसभा क्षेत्र (Nachan Assembly Seat) के अंतर्गत आने वाली छातर पंचायत में लोक निर्माण विभाग द्वारा उजाड़े गए आशियाने के बाद पीड़ित परिवार की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. एक परिवार अपनी तीन छोटी बच्चियों के साथ खुले आसमान (Open Sky) के नीचे रात बसर करने को मजबूर हो गया है.

  • Share this:
मंडी. हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले (Mandi District) की नाचन विधानसभा क्षेत्र (Nachan Assembly) के अंतर्गत आने वाली छातर पंचायत में लोक निर्माण विभाग (PWD) द्वारा उजाड़े गए आशियाने के बाद पीड़ित परिवार की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. आलम यह है कि उत्तरी भारत में पड़ रही कड़कड़ाती ठंड के बीच परिवार अपनी छोटी-छोटी तीन बेटियों सहित खुले आसमान के नीचे रात गुजारने को मजबूर हो रहे हैं. इस पीड़ित परिवार की दर्दनाक व्यथा को लेकर खबरें अभी तक की टीम द्वारा देर रात मौके पर जाकर हालात का जायजा लिया गया. खुले आसमान के नीचे छोटी-छोटी बेटियों संग सोए हुए परिवार की दुर्दशा देखकर किसी का भी मन पसीज जाएगा. अभी भी इस परिवार को प्रदेश सरकार से उन्हें इनका पुश्तैनी घर वापिस करने की आस लगी हुई है.

पंचायत प्रधान ने सरकार और प्रशासन को चेताया

इस मामले को लेकर ग्राम पंचायत छातर की प्रधान मीना देवी का कहना है कि लोक निर्माण विभाग ने रसूखदार को फायदा पहुंचाने के लिए गरीबों का आशियाना तोड़ा है. उन्होंने कहा कि गंगा सिंह अपने पूरे परिवार के साथ और तीन पोतियों के साथ भीषण ठंड में घर के बाहर सोने को मजबूर हैं. उन्होंने कहा कि जहां लोग घरों के अंदर रजाई में भी ठंड महसूस कर रहे हैं, ऐसे में यह परिवार बेघर होकर अपना गुजारा कर रहे हैं. उन्होंने प्रशासन और सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि इनके बारे में जल्द से जल्द कुछ सोचा जाए नहीं तो अगर इस परिवार को कुछ होता है तो सरकार और प्रशासन पूरी तरह से जिम्मेवार होगा.

poor Family
ग्राम पंचायत छातर की प्रधान मीना देवी का कहना है कि लोक निर्माण विभाग ने रसूखदार को फायदा पहुंचाने के लिए गरीबों का आशियाना तोड़ा है.


50 सालों से यहीं रह रहा था परिवार

मीना कुमारी ने कहा कि पीड़ित परिवार को उन्होंने अपने घर में जगह देने की भी बात कही थी, लेकिन इस परिवार का कहना है कि वह पिछले 40 से 50 सालों से यहां रहता है और यहीं जीना और मरना चाहते हैं.

क्या है मामला

बीते वीरवार को पीडब्ल्यूडी विभाग के सब डिविजन धनोटू द्वारा एक बिस्वा भूमि को खाली करवाने के दौरान एक गौशाला व रिहायशी मकान सहित शौचालय को उखाड़ दिया गया. विभाग की इस कार्रवाई से आहत होकर स्थानीय पंचायत प्रधान, प्रभावित और गांववासियों ने शुक्रवार को सरकार के 2 वर्ष पूरे होने को लेकर शिमला मेें आयोजित कार्यक्रम का बहिष्कार किया.

इस एक्ट के तहत हुई है ये कार्रवाई

प्रभावित परिवार पिछले लगभग 40—50 वर्षों से इस पुश्तैनी मकान में रहता था. यह परिवार विभाग द्वारा अमल में लाई जा रही कार्रवाई के दौरान विभागीय अधिकारियों व नाचन के विधायक से उन्हें कुछ मोहलत देने की गुहार भी लगाते रहे, लेकिन उनकी फरियाद सुनने वाला कोई नहीं था. विभाग ने पुलिस की मौजूदगी में गरीबों का आशियाना उजाड़ दिया. पीडब्ल्यूडी विभाग धनोटू द्वारा एसडीएम सुंदरनगर के न्यायालय में गंगा राम और जानकी देवी के खिलाफ हिमाचल प्रदेश पब्लिक प्रीमायसिस एक्ट के तहत मामले में कार्रवाई की गई है.

यह भी पढ़ें: सड़क हादसे में BJPYM नेता अंकुश की मौत, छह माह पहले पिता की हुई थी मौत

नेपाल से कुल्लू 15 किलो चरस लेकर आ रही 2 महिलाएं गिरफ़्तार

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज