VIDEO: मंडी के 96 साल पुराने शानन बिजली प्रोजेक्ट में पेन स्टोक की पाइप फटी, मचा हड़कंप

परियोजना क्षेत्र में काफी जलभराव हो गया और इस कारण विद्युत उत्पादन पूरी तरह से ठप्प हो गया है.

परियोजना क्षेत्र में काफी जलभराव हो गया और इस कारण विद्युत उत्पादन पूरी तरह से ठप्प हो गया है.

Joginnagar Shannan Hydro Project: शानन विद्युत परियोजना करीब 96 साल पुरानी है. 1925 में इसे तत्कालीन पंजाब सरकार के इंजीनियर कर्नल बीसी बैटी ने बनाया था. उस वक्त पंजाब सरकार और मंडी के राजा के बीच इसके संचालन के लिए 99 वर्षों की लीज का करार हुआ था.

  • Share this:
मंडी. हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में जोगिंद्रनगर (Joginder Nagar) में 110 मेगावॉट की शानन विद्युत परियोजना (Shannan Hydro Project) में पाइपलाइन फटने से हादसा हो गया. इस कारण परियोजना क्षेत्र में काफी जलभराव हो गया और इस कारण विद्युत उत्पादन पूरी तरह से ठप्प हो गया है. इसका एक वीडियो भी सामने आया है, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. बता दें कि इस विद्युत परियोजना का संचालन पंजाब बिजली बोर्ड (Punjab Electricity Board) द्वारा किया जाता है और इससे उत्पादित होने वाली बिजली की पंजाब और हिमाचल के कई हिस्सों में सप्लाई की जाती है. उत्पादन ठप्प होने से यह सप्लाई प्रभावित हुई है. गर्मियों का सीजन होने के चलते आजकल 15 से 20 मैगावॉट का ही उत्पादन हो पा रहा था.

Youtube Video


जानमाल का नुकसान नहीं

जानकारी के अनुसार इस घटना से किसी प्रकार के जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है. वहीं, प्रबंधन ने मामले की जांच शुरू कर दी है और बरोट डैम से पानी की सप्लाई पूरी तरह से रोक दी गई है. प्रबंधन इस पूरी घटना को सामान्य बता रहा है. परियोजना के रेजिडेंट इंजीनियर दलजीत सिह का कहना है कि पैनस्टाक की पाइप के फटने से परियोजना मे जल भराव होने से उत्पादन बंद हुआ है। इसे रविवार तक ठीक कर लिया जाएगा.
96 साल पुरानी है शानन विद्युत परियोजना

बता दें कि शानन विद्युत परियोजना करीब 96 साल पुरानी है. 1925 में इसे तत्कालीन पंजाब सरकार के इंजीनियर कर्नल बीसी बैटी ने बनाया था. उस वक्त पंजाब सरकार और मंडी के राजा के बीच इसके संचालन के लिए 99 वर्षों की लीज का करार हुआ था. 1966 में पंजाब के पुर्नगठन के दौरान पंजाब सरकार ने इसे हिमाचल सरकार को देने से इनकार कर दिया था. 2024 में इसकी लीज अवधि समाप्त होने के बाद यह परियोजना हिमाचल सरकार के पास आ जाएगी. मौजूदा समय में पंजाब बिजली बोर्ड इसका संचालन कर रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज