वीरों की भूमि हिमाचल पहुंची करगिल विजय मशाल, CM ने किया स्वागत

करगिल युद्ध के दौरान हिमाचल प्रदेश के 52 रणबांकुरों ने अपने प्राणों की आहूति दी थी, जिसमें मंडी जिला के 12 जवान शामिल थे. कैप्टन विक्रम बत्रा और हवलदार संजय कुमार को मरणोपरांत सेना के सर्वोच्च सम्मान परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था.

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 19, 2019, 2:35 PM IST
वीरों की भूमि हिमाचल पहुंची करगिल विजय मशाल, CM ने किया स्वागत
मंडी के सेरी मंच पर सीएम जयराम ठाकुर.
Virender Bhardwaj
Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 19, 2019, 2:35 PM IST
14 जुलाई को दिल्ली से कारगिल के लिए रवाना हुई कारगिल विजय ज्योति शुक्रवार को हिमाचल की छोटी काशी के नाम से विख्यात मंडी पहुंची. मंडी शहर के ऐतिहासिक सेरी मंच पर सीएम जयराम ठाकुर ने विजय ज्योति का स्वागत किया. उनके साथ अन्य मंत्रीगण और विधायक व प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद रहे. सीएम ने कारगिल विजय ज्योति को अपने हाथ में थामा और दोबारा से उसे सेना के जवानों के हवाले कर दिया.

दो परमवीर चक्र हिमाचल को मिले: सीएम
सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि कारगिल युद्ध सेना के अदम्य साहस की याद दिलाता है कि किस तरह से सेना के वीरों ने अपने प्राणों की आहूति देकर इस युद्ध को जीता था. उन्होंने कहा कि इस युद्ध के दौरान देश के चार वीरों को सेना के सर्वोच्च सम्मान परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था, जिसमें से 2 परमवीर चक्र हिमाचल के वीरों को मिले थे, जो अपने आप में गर्व की बात है।

दिल्ली से करगिल तक जाएगी मशाल

उन्होंने कहा कि देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दिल्ली से कारगिल ज्योति को बीती 14 जुलाई को रवाना किया था और आज इसका मंडी में स्वागत करके एक अलग अनुभूति हो रही है. उन्होंने कहा कि यह समय सेना के वीरों को याद करके उन्हें नमन करने का है.

हिमाचल से 52 रणबांकुरे हुए थे शहीद
बता दें कि करगिल युद्ध के दौरान हिमाचल प्रदेश के 52 रणबांकुरों ने अपने प्राणों की आहूति दी थी, जिसमें मंडी जिला के 12 जवान शामिल थे. कैप्टन विक्रम बत्रा और हवलदार संजय कुमार को मरणोपरांत सेना के सर्वोच्च सम्मान परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था. इस युद्ध का टर्निंग प्वाईंट तोलोलिंग की चोटी को फतेह करना था और इस चोटी को ब्रिगेडियर खुशहाल ठाकुर के नेतृत्व में फतेह किया गया था, जोकि मंडी जिला के पनारसा गांव के रहने वाले हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें: सौरभ कालिया: 22 दिन पाक की कैद में रहे, सही कई यातनाएं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 19, 2019, 2:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...