लाइव टीवी

ब्रिटेन से हिमाचल पहुंची लिंडसे, जानिए वह यहां क्या रही हैं...

Nitesh Saini | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 8, 2019, 5:22 PM IST
ब्रिटेन से हिमाचल पहुंची लिंडसे, जानिए वह यहां क्या रही हैं...
इंग्लैंड से स्पेशल बच्चों को पढ़ाने आई हैं लिंडसे

स्पेशल बच्चों के लिए कुछ करने का भाव इंग्लैंड की लिंडसे को भारत खींच लाई. लिंडसे आज कल भारत के हिमाचल प्रदेश में आई हुई है.

  • Share this:
स्पेशल बच्चों के लिए कुछ करने का भाव इंग्लैंड की लिंडसे को भारत खींच लाई. लिंडसे आज कल भारत के हिमाचल प्रदेश में आई हुई है. सुंदरनगर के डोडवा स्थित साकार के स्पेशल चिल्ड्रेन स्कूल में आजकल एक विदेशी मेहमान के आने से चहल पहल है. लिंडसे ने फेसबुक के माध्यम से साकार स्कूल के अधिकारियों से संपर्क किया और इंग्लैंड के एक कॉलेज की तरफ से दो सप्ताह के एजुकेशनल टूर पर वह यहां आ पहुंची. लिंडसे आजकल इस स्कूल के विशेष बच्चों के साथ रहकर उनके क्रियाकलापों पर अध्ययन कर रही हैं. इस दौरान वह स्थानीय संस्कृति और परम्पराओं की भी जानकारी लेंगी. लिंडसे स्टेफोर्डशिरे विश्वविद्यालय की स्कॉलरशिप पर भारत आई हैं.

बच्चों को अंग्रेजी पढ़ा रही है लिंडसे

लिंडसे ने साकार स्कूल के बच्चो के साथ अच्छी खासी मित्रतता कर ली है. वह यहां के कार्यरत विशेष अध्यापकों व अध्यापिकाओं के साथ मिलकर बच्चों के बारे में जानकारियां प्राप्त कर रही हैं. उनके अध्ययन के साथ बच्चों को अंग्रेजी पढ़ाने का काम भी मिला है. बेशक, वह अपने घर से चार हज़ार किलोमीटर दूर है, मगर संस्थान के प्रबधंकों के प्रयास से उन्हें वह हर चीज सीखने का मौका मिल रहा है जो कि उनके इस एजुकेशनल टूर के लिए जरूरी है.

लिंडसे से उनका कॉलेज रोज ले रहा है अपडेट

आपको मालूम हो कि लिंडसे से उनका कॉलेज भी रोज उनके कामों का अपडेट ले रहा है. लिंडसे की सादगी यहां के बच्चों को सर्वाधिक पसंद आ रही है. वह जब से आई है, संस्थान में एक नई ऊर्जा आई है. बताते हैं कि उन्होंने स्थानीय गांव की लड़कियों की तरह कुर्ता, सलवार और दुपट्टा डालना शुरू कर दिया है. उन्हें यहां का खानपान और पहाड़ी टोपी खूब भा रही है.

फेसबुक के माध्यम से साकार स्कूल से किया संपर्क

स्पेशल बच्चों के साकार स्कूल की अध्यक्ष शीतल शर्मा ने कहा कि इंग्लैंड की लिंडसे ने फेसबुक के माध्यम से हमारे साथ संपर्क किया और सुंदरनगर पहुंची है. वह हमारे स्कूल के बच्चों को स्पेशल ट्रेनिंग दे रही हैं. बच्चों में एक नई ऊर्जा सी आ गई है. स्कूल में कई ऐसे बच्चे भी थे जो अच्छे से अभ्यास नहीं कर पाते थे, लेकिन लिंडसे की सहायता से वह अच्छी तरह से अभ्यास कर रही हैं.
Loading...

यह भी पढ़ें: नैना देवी के दरबार में बच्ची को होमगार्ड ने डंडों से पीटा

पांच जिंदगियों को बचाने के लिए 300 Km. दौड़ चुके हैं धावक सुनील शर्मा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 8, 2019, 5:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...