अपना शहर चुनें

States

COVID-19: हिमाचल की चौकसी की 68 वर्षीय बुजुर्ग ने खोली पोल, बिना पास मोहाली से पहुंचा पंडोह

मोहाली से मंडी पहुंचा शख्स.
मोहाली से मंडी पहुंचा शख्स.

पंडोह पुलिस चौकी से हैड कांस्टेबल भानु प्रताप अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे और मामले की सारी जांच पड़ताल की. उन्होंने बताया कि व्यक्ति बीना पास के आया है और क्वाटर का ताला तोड़कर यहां रह रहा है, इन्हें वापिस भिजवाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है

  • Share this:
मंडी. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की सीमाओं पर कितनी चौकसी है इसकी पोल एक 68 वर्षीय बुजुर्ग ने खोलकर रख दी है. घटना पिछले 30 अप्रैल की है और इसकी जानकारी शुक्रवार को मिली है. 68 वर्षीय मेहर सिंह मोहाली से मंडी (Mandi) जिला के पंडोह (Pandoh) अपनी निजी गाड़ी को खुद चलाकर ले आया और रास्ते में इन्हें किसी ने नहीं पूछा. खुद मेहर सिंह ने माना कि रास्ते में उससे किसी ने न तो कर्फ्यू (Curfew) पास मांगा और न ही अन्य दस्तावेज. हिमाचल की सीमा में प्रवेश करने से पहले बाकायदा मेडिकल (Medical) तक करवा दिया, लेकिन हिमाचल में प्रवेश की अनुमति के बारे में कोई जांच-पड़ताल नहीं हुई. मेहर सिंह का तर्क है कि वह अपनी बची हुई सैलरी लेने यहां आया है.

बीबीएमबी पंडोह में एसडीओ थे मेहर
मेहर सिंह बीबीएमबी पंडोह में बतौर एसडीओ कार्यरत थे. यहां यह जिस सरकारी क्वार्टर में रहते थे, उसका ताला तोड़कर वहीं पर रात बीताई. मेहर सिंह अपने साथ रहने और खाने का सामान भी लेकर आया है. शुक्रवार सुबह जब बीबीएमबी प्रबंधन को इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने तुरंत पुलिस को सूचित किया। बीबीएमबी के एक्सईएन ई. राजेश हांडा ने बताया कि जेई के माध्यम से जानकारी मिलने के बाद पुलिस को कार्रवाही के लिए सूचित कर दिया गया है.

मंडी पहुंचे बुजुर्ग.
मंडी पहुंचे बुजुर्ग.

वापस भेजा जाएगा: पुलिस


पंडोह पुलिस चौकी से हैड कांस्टेबल भानु प्रताप अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे और मामले की सारी जांच पड़ताल की. उन्होंने बताया कि व्यक्ति बीना पास के आया है और क्वाटर का ताला तोड़कर यहां रह रहा है, इन्हें वापिस भिजवाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और नियमानुसार कार्रवाही अम्ल में लाई जा रही है.

दो राज्यों के कई नाके क्रॉस किए
अब सवाल यह उठता है कि हिमाचल प्रदेश की सीमा से लेकर पंडोह तक पुलिस के दर्जनों नाके हैं. ऐसे में क्या बाहर से आने वाले वाहनों को इतनी लापरवाही के साथ यहां आने दिया जा रहा है. यदि बुजुर्ग द्वारा कही जा रही बात सत्य है तो यह प्रदेश के लिए किसी बड़े खतरे की घंटी से कम नहीं. राज्य सरकार को सोचना होगा कि सख्ती दिखावे के लिए की जा रही है या फिर बचाव के लिए.

ये भी पढ़ें: शूटिंग के लिए शिमला आए थे अभिनेता ऋषि कपूर, जाखू में ली थी चाय की चुस्कियां

सुंदरनगर में युवक को सांप ने काटा, मां भागकर नाके पर पहुंची, पुलिस ने की मदद

COVID-19: हिमाचल में 948 मरीजों को सरकार ने होम डिलीवरी से पहुंचाई दवाएं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज