कोरोना संकट में ‘साइलेंट वॉरियर’ रहे मंडी के BJP सांसद रामस्वरूप को सम्मान
Mandi News in Hindi

कोरोना संकट में ‘साइलेंट वॉरियर’ रहे मंडी के BJP सांसद रामस्वरूप को सम्मान
मंडी से भाजपा सांसद अपने घर पर बंदूक के साथ. (FILE PHOTO)

सांसद रामस्वरूप शर्मा कोरोना को लेकर लगाए गए लॉकडाउन में विवादों में भी रहे. वह लॉकडाउन के बीच दिल्ली से मंडी लौटे तो विवाद हो गया. क्योंकि इस दौरान हिमाचल के बॉर्डर सील थे. वहीं, सोशल मीडिया पर घर में विश्राम के दौरान उन्होंने बंदूक के साथ फोटो भी डाली, जिसे लेकर भी उनकी सोशल मीडिया पर जमकर किरकिरी हुई थी.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
मंडी. हिमाचल प्रदेश के मंडी (Mandi) जिले से भाजपा सांसद रामस्वरूप शर्मा (BJP MP Ramswaroop Sharma) को कोरोना महामारी में सकारात्मकता और आशा की भावना का प्रचार करने और पर्दे के पीछे रहकर मूक योद्धा (साइलेंट वारियर) के रूप में काम करने के लिए वैश्विक पहचान मिली है. इस कार्य के लिए वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स-लंदन (यूके) द्वारा मंडी (Mandi) से दूसरी बार सांसद बने रामस्वरूप शर्मा के काम को मान्यता दी गई है और प्रमाण पत्र भेजकर इसकी सराहना भी की है.

मोदी को भेजा पत्र
वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स-लंदन (यूके) के प्रेजिडेंट संतोष शुक्ला ने इसकी घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजे एक पत्र में करते हुए कहा है कि कोविद -19 के दौर में देशभर के सांसदों के कामकाज पर एक ऑनलाइन सर्वे किया और उस आधार पर सांसदों के अपने फेसबुक पेज, सोशल मीडिया सर्कल और समाचार पत्रों व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया कवरेज से प्राप्त जानकारी में कुछ सांसदों का काम बेहतर आँका गया है, जिसमें मंडी के सांसद रामस्वरूप शर्मा के काम सबसे प्रशंसनीय है.

इस अवधि के दौरान प्रकाशित किए जा रहे STAR-2020 एडिशन में बेहतर काम करके दिखाने वालों के नाम शामिल किए जा रहे हैं. इस आशय का प्रमाण पत्र सांसद रामस्वरूप शर्मा को भी भी भेजा गया है, जिसकी पुष्टि स्वयं रामस्वरूप शर्मा ने भी की है, बताया जा रहा कि जल्द एक बड़े समारोह में उपरोक्त संस्था कोविड-19 के सराहनीय सेवाएं देने वाले फ्रंट लाइन योद्धाओं और जनता के बीच काम करने वाले योद्धाओं को समानित करेगी.



सांसद रामस्वरूप शर्मा को भेजा गया प्रशस्ति पत्र.
सांसद रामस्वरूप शर्मा को भेजा गया प्रशस्ति पत्र.




दो माह में सांसद महोदय ने क्या किया
सांसद रामस्वरूप शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर सबसे पहले 50 लाख रुपए अपने संसदीय क्षेत्र में महामारी से निपटने के लिए प्रशासन को दिए. उसके बाद प्रधानमंत्री केयर फंड में एक करोड़ रूपए सांसद निधि से भी दिए. इसके बाद उन्होंने श्री लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज एवं समर्पित कोविड अस्पताल नेरचौक को एक एंबुलेंस देने के अलावा एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के माध्यम से 10 लाख रुपये पीपीई किट व अन्य उपकरणों की खरीद के लिए, जोनल अस्पताल मंडी व कुल्लू के लिए एक-एक स्टाफ व्हीकल दिए। यही नहीं क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू को 10 लाख रुपए एनएचपीसी से दिलाए. जोगिन्दरनगर सिविल अस्पताल के लिए भी 15 लाख रुपए सतलुज जल विधुत निगम से उपलब्ध करवाए. भारतीय जनता पार्टी संगठन की ओर से भी फ्रंट लाइन कोरोना वॉरियर्स व गांव के लोगों को मास्क व सेनिटाइजर बांटे. जोगिन्दरनगर, नेरचौक, मंडी, कुल्लू और करसोग में कोरोना योद्धाओं जिसमें डॉक्टर, नर्सें, सफाई कर्मचारी, पुलिस और प्रशासनिक टीम का फूलों से स्वागत करना शामिल है.

विवादों में भी रहे
सांसद रामस्वरूप शर्मा कोरोना को लेकर लगाए गए लॉकडाउन में विवादों में भी रहे. वह लॉकडाउन के बीच दिल्ली से मंडी लौटे तो विवाद हो गया. क्योंकि इस दौरान हिमाचल के बॉर्डर सील थे. वहीं, सोशल मीडिया पर घर में विश्राम के दौरान उन्होंने बंदूक के साथ फोटो भी डाली, जिसे लेकर भी उनकी सोशल मीडिया पर जमकर किरकिरी हुई थी.

ये भी पढ़ें: हिमाचल BJP में गुटबाजी: कांगड़ा प्रकरण पहले दिल्ली, अब शिमला पहुंचा

मंडी में चचेरे भाई पर बहन से रेप का आरोप, दोनों नाबालिग

हिमाचल: दो गुटों में खूनी झड़प, एक भाई की मौत, 2 घायल, 8 गिरफ्तार
First published: June 3, 2020, 1:02 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading