मंडी के इस दंपति सहित पूर्व सैनिक ने लिया देहदान का संकल्प

Nitesh Saini | News18 Himachal Pradesh
Updated: September 12, 2019, 2:08 PM IST
मंडी के इस दंपति सहित पूर्व सैनिक ने लिया देहदान का संकल्प
पूर्व फौजी और दंपति ने लिया देहदान का संकल्प.

जिला मंडी के उपमंडल सुंदरनगर के डुगराई के रहने वाले सेना से सेवानिवृत्त अमर सिंह (36) ने भी मौत के बाद देहदान करने का निर्णय लिया है.

  • Share this:
सुंदरनगर (मंडी). मानवता के लिए शरीर दान (‌Body Donation) करना सबसे बड़ा पुण्य है. ऐसे ही पुण्य का भागी बनने के लिए जिला मंडी (Mandi) में कई लोग सामने आ रहे हैं. मंडी जिला के बल्ह उपमंडल के मैरामसीत की एक दंपति ने मरणोपरांत अंगदान और देहदान करने का संकल्प लिया है. दानी पति-पत्नी श्री लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल नेरचौक (Nerchowk Medical College) में जाकर देहदान की सभी औपचारिकताओं को पूरा किया है. शिक्षा विभाग में कार्यरत शास्त्री शिक्षक खेमसिंह (57) व उनकी पत्नी इंद्रा देवी (54) निवासी बल्ह मैरामसीत ने स्वयं देहदान का निर्णय लिया.

यह बोले दंपति
दंपति ने कहा कि मौत के बाद आंखें, गुर्दे, ब्रेन पार्ट सहित अन्य अंग जरूरतमंद, असहाय व गरीब लोगों की जान बचाने के काम आएं. उन्होंने कहा कि यह शरीर मृत्यु और दाह संस्कार के बाद केवल राख का ढेर मात्र रह जाता है. यदि मानव कल्याण में हमारे अंग या देह काम आए तो इससे बढ़कर सौभाग्य की बात क्या हो सकती है. उन्होंने कहा कि देहदान महादान कहा जाता है.

ऐसे मिली प्रेरणा

देहदान करने वाले दंपति ने कहा कि मरणोपरांत उनकी देह को तुरंत लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज और अस्पताल नेरचौक पहुंचा दिया जाएगा. उन्होंने मौत के उपरांत रिश्तेदारों से किसी भी प्रकार के शोक समारोह, कर्मकांड, मृत्युभोज और अन्य कार्यक्रम न करने का आह्वान किया है. उन्होंने कहा कि हमें देहदान करने की प्रेरणा राधास्वामी सत्संग व्यास में देहदान व अंग प्रत्यारोपण के लिए चलाए गए अभियान व डाक्यूमेंट्री फिल्म से मिली. दंपति ने क्षेत्र के लोगों से भी अपील की है कि पीड़ित मानवता के लिए इस प्रकार के काम के लिए आगे आएं.

देहदान के लिए पूर्व सैनिक भी आए सामने
जिला मंडी के उपमंडल सुंदरनगर के डुगराई के रहने वाले सेना से सेवानिवृत्त अमर सिंह (36) ने भी मौत के बाद देहदान करने का निर्णय लिया है. उन्होंने बताया कि 17 साल सेना में सेवाएं देने के बाद उन्होंने निर्णय लिया है कि उनका मृत्यु उपरांत शरीर अन्य लोगों के काम आ सके. उन्होंने भी मेडिकल नेरचौक में अपने देह दान करने की सभी औपचारिक़ता पूरी की है. उन्होंने कहा कि देहदान करने का जो निर्णय कई लोगों को इस पुण्य कर्म भागीदारी देने के बाद लिया है. उन्होंने जब अन्य लोगों की खबर पड़ी तो उन्हें देह दान करने के निर्णय पर बहुत ज्यादा बल मिला, इसलिए उन्होंने यह निर्णय लिया.
Loading...

ये भी पढ़ें: स्कूली बच्चों से मोबाइल की लत छुड़वाने के लिए ये कदम उठाएगी हिमाचल सरकार

हिमाचल के बड़ू पॉलीटेक्निक कॉलेज में फर्स्ट ईयर के छात्र से रैगिंग, FIR

मंडी के इस दंपति सहित पूर्व सैनिक ने लिया देहदान का संकल्प

महिला टीचर से प्रताड़ना: उच्च शिक्षा उपनिदेशक, प्रिंसिपल और DPI पर होगी FIR

हैप्पी बर्थ-डे टू शांता कुमार: पंच से हिमाचल के CM की कुर्सी का सफर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 12, 2019, 12:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...