लाइव टीवी

मंडी: फोरलेन प्रभावित किसान संघ हुआ मुखर, चक्का जाम की चेतावनी
Mandi News in Hindi

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: February 10, 2020, 5:19 PM IST
मंडी: फोरलेन प्रभावित किसान संघ हुआ मुखर, चक्का जाम की चेतावनी
मंडी में फोरलेन प्रभावित नारेबाजी करते हुए.

फोरलेन प्रभावित किसान संघ ने विस्थापितों का पुर्नवास पुर्नस्थापन करने, जमीन का चार गुणा मुआवजा देने, दुकानदारों को गुडविल देने, पर्यावरण को स्वच्छ रखने और प्रभावित परिवारों के सदस्यों को रोजगार देने की मांग उठाई हैं.

  • Share this:
मंडी. फोरलेन (Four lane Issue) प्रभावित किसान संघ कुल्लू मंडी मांगों को लेकर मुखर हो गई है. किसान संघ ने मंडी के टकोली में बैठक आयोजित कर हिमाचल सरकार (Himachal Government) के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है, बैठक में रणनीति बनाने के बाद औट बाजार में फोरलेन प्रभावित किसान संघ ने रोष रैली निकाली और औट तहसीलदार के माध्यम से प्रदेश सरकार को ज्ञापन भेजा. फोरलेन प्रभावित किसान संघ के अध्यक्ष प्रेम सिंह ठाकुर ने बताया कि पिछले सालों से फोरलेन प्रभावित किसान, दुकानदार व अन्य की सुनवाई नहीं हो रही है. इस पर अब फोरलेन प्रभावित किसान संघ का गठन किया गया है. यह संघ राजनीति से ऊपर उठकर काम करेगा.

घोषणा धरातल स्तर पर लागू नहीं
संघ ने कहा कि 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में फोरलेन प्रभावितों को चार गुणा मुआवजा देने की बात कही थी, लेकिन सरकार के दो साल पूरे होने के बावजूद अभी तक घोषणा धरातल स्तर पर लागू नहीं हो पाई है. इसी के साथ 2013 का भूमि अधिग्रहण कानून भी हिमाचल में सरकार लागू नहीं कर पाई हैं, जिससे प्रभावितों में भारी रोष है. उन्होंने कहा कि फोरलेन निर्माण के दौरान एनएच पर भारी धूल उड़ रही है.

बार-बार मामला उठाने के बावजूद कुछ नहीं

बार-बार मामला उठाने के बावजूद एनएचएआई इस मसले पर कुछ नहीं कर रही है. आलम यह है कि इलाके के लोगों को श्वास संबंधी रोग लगना शुरू हो गए हैं. फोरलेन प्रभावित किसान संघ ने विस्थापितों का पुर्नवास पुर्नस्थापन करने, जमीन का चार गुणा मुआवजा देने, दुकानदारों को गुडविल देने, पर्यावरण को स्वच्छ रखने और प्रभावित परिवारों के सदस्यों को रोजगार देने की मांग उठाई हैं. संघ के अध्यक्ष प्रेम सिंह ठाकुर ने कहा कि सरकार फोरलेन प्रभावितों के साथ वार्ता करे और स्थिति साफ करें. उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर मांगों की अनदेखी की गई तो किसान, बागवान व दुकानदार मिलकर चक्का जाम करेंगे. इसकी जिम्मेवारी सरकार व प्रशासन की होगी.

मंडी में फोरेलन प्रभावित.
मंडी में फोरेलन प्रभावित.


फोरलेन प्रभावितों में रोषफोरलेन प्रभावित किसानों का आरोप है कि फोरलेन प्रभावितों को वोट बैंक के लिए ठगा गया है. लोकसभा चुनाव के बाद न तो वायदे करने वाले नेता नजर आ रहे हैं और न ही धरातल स्तर पर कुछ हो पाया है. चार साल में प्रभावितों की कोई भी मांग हल नहीं हो पाई हैं. प्रभावितों का कहना है कि हिमाचल के ही अन्य जगहों में मंडी व कुल्लू जिला के मुकाबले अधिक मुआवजा दिया जा रहा है. ऐसे में मंडी व कुल्लू जिला के फोरलेन प्रभावितों में रोष है.

कार्यप्रणाली को लेकर सवाल उठाए
बता दें कि फोरलेन प्रभावितों की मांगों व समस्याओं को सुलझाने के लिए फोरलेन प्रभावित किसान संघ कुल्लू मंडी का गठन किया गया, जिसका अध्यक्ष प्रेम सिंह ठाकुर को चुना गया. बैठक के दौरान फोरलेन संघर्ष समिति की कार्यप्रणाली को लेकर सवाल उठाए गए. वहीं, फोरलेन प्रभावितों ने अपनी मांगों को मनवाने के लिए सरकार के खिलाफ बड़ा आंदोलन करने के लिए एकमत हामी भरी. ऐसे में अब प्रदेश सरकार व फोरलेन प्रभावित आमने सामने है और मांगों की अनेदखी पर टकराव की स्थिति पैदा हो सकती है.

ये भी पढ़ें: दिल्ली सरकार को खूब कोसा, लेकिन हिमाचल में 9850 मेधावियों को लैपटॉप का इंतजार

हिमाचल की दवा इंडस्ट्री पर कोरोना वायरस का असर, उत्पादन पर संकट

चौकीदार और उसकी ‘दबंग’ बीवी से परेशान APMC कांगड़ा के सचिव और कर्मचारी, FIR

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 10, 2020, 5:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर