• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • MANDI MANDI MORE THAN 40 LAKHS VEHICLES PURCHASED ON THE NAME OF DHARAMPUR XEN STIRS CONTROVERSY HPVK

हिमाचल पर 54 हजार करोड़ का कर्ज: धर्मपुर XEN के नाम पर ली 27 लाख की गाड़ी और 1 लाख में VVIP नंबर

एक्सईएन के नाम पर खरीदी गई है गाड़ी.

आरएलए एवं एसडीएम (धर्मपुर) सुनील वर्मा ने कहा कि एचपी 86 0006 के लिए VVIP नंबर देने को लेकर अधिशासी अभियंता (भराड़ी, धर्मपुर) की ओर से 1 लाख रुपये जारी किए गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    धर्मपुर (मंडी). हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) पर 54 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा कर्ज है. वहीं, सरकार फिजूलखर्ची पर लगाम न लगाकर अफसरों के नाम पर महंगी गाड़ियां खरीद रही है. बड़ी बात यह है कि अफसर इस गाड़ी का इस्तेमाल भी नहीं कर रहे हैं. आरोप है कि मंत्री (Minister) के बेटे द्वारा इस गाड़ी का इस्तेमाल किया जा रहा है. मामला हिमाचल के मंडी (Mandi) जिले के धर्मपुर इलाके का है. यहां से कैबिनेट में सीएम (CM) के बाद दूसरा स्थान रखने वाले जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर विधायक हैं.

    मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, धर्मपुर में 27 लाख रुपये की एक गाड़ी अधिशासी अभियंता (आईपीएच) के नाम पर खरीदी गई. आरोप है कि गाड़ी का उपयोग मंत्री के बेटे कर रहे हैं और वह इसी से कार्यक्रमों में शिरकत करते हैं. यह टोयोटा इनोवा क्रिस्टा टॉप मॉडल की गाड़ी इसी साल मार्च में पंजीकृत हुई है. इसके लिए 1 लाख रुपये देकर VVIP नम्बर भी लिया गया है.

    अफसरों के लिए इतनी महंगी गाड़ी
    बता दें कि हिमाचल प्रदेश में एक्सईएन लेवल के अधिकारियों के लिए इतनी महंगी गाड़ियों का इस्तेमाल नहीं होता है. लेकिन, इस मामले से सरकार की चौतरफा किरकिरी हो रही है कि सरकारी खर्च पर 27 लाख रुपये की गाड़ी क्यों ली गई. आमतौर पर एक्सईएन लेवल के अधिकारी 7 लाख की बोलेरो गाड़ियों में सफर करते हैं.

    इसी साल मार्च में यह गाड़ी खरीदी गई है.
    इसी साल मार्च में यह गाड़ी खरीदी गई है.




    XEN के नाम ली गई गाड़ी
    रिपोर्ट के अनुसार, आरटीआई के माध्यम से पता चला है कि केंद्र सरकार की जल जीवन मिशन योजना से 27 लाख की एक टोयोटा और दो बोलेरो गाड़ियां खरीदने के लिए 40 लाख रुपये से भी अधिक खर्च किया गया है. आरटीआई एक्टिविस्ट और कांग्रेस नेता भूपेंद्र ठाकुर ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि जब से उक्त लग्जरी गाड़ी खरीदी गई है, तब से लेकर आज तक धर्मपुर, संधोल, सरकाघाट, मनाली और करसोग से लेकर कई स्थानों पर सीसीटीवी फुटेज चेक की जाए, हर फुटेज में मंत्री का बेटा ही इस गाड़ी में घूम रहा है.

    क्या बोले एसडीएम?
    आरएलए एवं एसडीएम (धर्मपुर) सुनील वर्मा ने कहा कि एचपी 86 0006 के लिए वीआईपी नंबर देने को लेकर अधिशासी अभियंता (भराड़ी, धर्मपुर) की ओर से 1 लाख रुपये जारी किए गए हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मंत्री के बेटे रजत ठाकुर ने इन आरोपों से इनकार किया है.
    Published by:Vinod Kumar Katwal
    First published: