बेटी नहीं बचाओगे तो राखी किसे बंधवाओगे! मंडी के इस गांव में नहीं मनाया गया रक्षाबंधन
Mandi News in Hindi

बेटी नहीं बचाओगे तो राखी किसे बंधवाओगे! मंडी के इस गांव में नहीं मनाया गया रक्षाबंधन
मंडी का नसलोह गांव.

29 और 30 जुलाई की रात को गांव की एक महिला ने घर पर बेटी को जन्म दिया, लेकिन उसके पति ने उस नवजात को मौत के घाट उतारकर दफना दिया. उसने यह सिर्फ इसलिए किया, क्योंकि उसके घर बेटी ने जन्म लिया था. आरोपी पुलिस की गिरफ्त में है.

  • Share this:
मंडी. हिमाचल प्रदेश के मंडी (Mandi) जिला मुख्यालय से 8 किमी की दूरी पर बसे नसलोह गांव में इस बार रक्षाबंधन (Rakhsabandhan) का त्यौहार नहीं मनाया गया. कारण…, तीन दिन पहले गांव के एक बाप ने अपनी एक दिन की नवजात की हत्या कर दी थी. गांव के लोग इस घटना से इतने आहत हैं कि उन्होंने इस बार रक्षा बंधन का त्यौहार (Festival) न मनाकर मासूम को श्रद्धांजलि (Tribute) दी.

दो मिनट का मौन रखा

गांव के लोग एक स्थान पर इकट्ठा हुए और दो मिनट का मौन रखकर मासूम को श्रद्धांजलि दी. स्वास्थ्य विभाग कटौला के स्वास्थ्य शिक्षक राकेश यादव और स्थानीय पंचायत के वॉर्ड सदस्य राकेश कुमार सहित आंगनबाडी कार्यकर्ता और आशा वर्कर भी इस मौके पर मौजूद रही.



क्या बोले लोग
वॉर्ड सदस्य राकेश कुमार ने बताया कि इस जघन्य अपराध से गांव का नाम बदनाम हुआ है, लेकिन आज गांव के लोग यह संदेश देना चाहते हैं कि एक व्यक्ति के कारनामे का दोष सभी को नहीं दिया जा सकता. उन्होंने कहा कि गांव के लोग बेटियों के प्रति पूरा आदर सम्मान रखते हैं. उन्होंने बताया कि गांव में जो क्रूरतापूर्वक घटना घटी है. उसके चलते गांव के लोगों ने इस बार रक्षा बंधन का त्यौहार नहीं मनाया और यह संदेश देने का प्रयास किया कि अगर बेटियां ही नहीं रहेंगी तो फिर भविष्य में किससे राखी बंधवाओगे.

ये है मामला

29 और 30 जुलाई की रात को गांव की एक महिला ने घर पर बेटी को जन्म दिया, लेकिन उसके पति ने उस नवजात को मौत के घाट उतारकर दफना दिया. उसने यह सिर्फ इसलिए किया, क्योंकि उसके घर बेटी ने जन्म लिया था. आरोपी पुलिस की गिरफ्त में है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज