मंडी में देव संस्कृति के महाकुंभ शिवरात्रि महोत्सव का CM ने किया आगाज

महोत्सव का आगाज सूबे के मुखिया जयराम ठाकुर दोपहर 2 बजे करेंगे. इस दौरान सीएम पहले राजा माधव राय मंदिर में पूजन करेंगे.

News18Hindi
Updated: February 15, 2018, 5:31 PM IST
मंडी में देव संस्कृति के महाकुंभ शिवरात्रि महोत्सव का CM ने किया आगाज
मंडी में एेतिहासिक शिवरात्रि महोत्सव का वीरवार को आगाज हुआ.
News18Hindi
Updated: February 15, 2018, 5:31 PM IST
मंडी के अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव का वीरवार को विधिवत आगाज हो गया है. सात दिन तक चलने वाले इस महोत्सव का आगाज सूबे के मुखिया जयराम ठाकुर ने दोपहर बाद किया. इस दौरान सीएम ने पहले राजा माधव राय मंदिर में पूजन किया. फिलहाल, शोभायात्रा निकाली जा रही है. सीएम के साथ कैबिनेट मंत्री महेंद्र सिंह और अनिल शर्मा भी मौजूद हैं.
200 से ज्यादा देवी-देवता मंडी पहुंच चुके हैं. प्रशासन ने कुल 216 देवी-देवताओं को इस आयोजन के लिए निमंत्रण दिया है. ये सभी देवी देवता पारंपरिक शोभायात्रा में शिरकत कर रहे हैं. महोत्सव को लेकर मंडी में सुरक्षा की दृष्टि से चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल को तैनात किया गया है.

21 जनवरी को समाप्त होगा महोत्सव


15 फरवरी से शुरू हो रहा यह महोत्सव 21 जनवरी को समाप्त होगा. राज्यपाल इसका समापन करेंगे. इस दौरान नाइट प्रोग्राम भी होंगे. इनमें प्रदेश और बॉलीवुड के नामी कलाकार परफार्म करेंगे.मंडी जनपद के आराध्य देव कमरूनाग भी मंडी के टारना में विराजमान हो चुके हैं. इन्हें के यहां पर पहुंचने पर इस महोत्सव का आगाज होता है.

शैव, वैष्णव और लोक देवता का संगम
शिवरात्रि महोत्सव को लेकर एक मान्यता यह भी है कि यह एक ऐसा महोत्सव है जिसमें शैव, वैष्णव और लोक देवता का संगम होता है. शैव भगवान शिव को कहा गया है, वैष्णव भगवान श्री कृष्ण को और लोक देवता देव कमरूनाग को.

इन तीनों की अनुमति के बाद ही मंडी का शिवरात्रि महोत्सव शुरू होता है. इतिहासकार बताते हैं कि राजाओं के दौर में वर्ष में एक बार यानी शिवरात्रि के दौरान मंडी रियासत के सभी ग्रामीण अपने ग्राम देवताओं के साथ राजा से मिलने आते थे. इस दौरान वर्ष भर का लेखा-जोखा भी होता था और शिवरात्रि का उत्सव भी मनाया जाता था.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर