लाइव टीवी

मातृ वंदना जागरूकता सप्ताह : 2 से 8 दिसंबर तक विभिन्न कार्यक्रमों का होगा आयोजन

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 2, 2019, 7:24 PM IST
मातृ वंदना जागरूकता सप्ताह : 2 से 8 दिसंबर तक विभिन्न कार्यक्रमों का होगा आयोजन
योजना की लाभान्वित महिलाओं को किया गया सम्मानित

अगले एक सप्ताह तक विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से गांव-गांव तक भारत सरकार की मातृ वंदना योजना (Matri Vandan Yojna) के बारे में लोगों को जागरूक किया जाएगा.

  • Share this:
मंडी. भारत सरकार की मातृ वंदना योजना (Matri Vandan Yojna) के तहत मंडी में जिला स्तरीय जागरूकता सप्ताह (Awareness Week) का शुभारंभ हुआ. जागरूकता सप्ताह का शुभारंभ एडीसी मंडी आशुतोष गर्ग ने किया. इस मौके पर समारोह में उपस्थित महिलाओं को प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत पुरस्कार भी वितरित किए गए. अपने संबोधन में एडीसी मंडी आशुतोष गर्ग ने कहा कि भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही मातृ वंदना योजना के तहत 1 जनवरी 2017 से 30 नवंबर 2019 तक जिला में विभाग के पास 48680 आवेदन प्राप्त हुए. उन्होंने कहा कि 7 करोड़ 53 लाख 41 हजार रुपये की भुगतान राशि सीधे लाभार्थियों (Beneficiaries) के आधार लिंक बैंक खातों में डाली गई है.

... ताकि गर्भवति महिलाएं योजना का लाभ उठा सकें

गर्ग ने बताया कि भारत सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के निर्देशानुसार लोगों में इस योजना के प्रति जागरूकता लाने के लिए जागरूकता सप्ताह का शुभारंभ किया गया है. इसका मुख्य उद्देश्य लोगों और खासकर गर्भवति महिलाओं को मातृ वंदना योजना के प्रति जागरूक करना है ताकि गर्भ धारण करने वाली महिलाएं भारत सरकार की ओर से गर्भावस्था के दौरान मिलने वाली 5 हजार रूपये की धनराशि को प्राप्त कर इस योजना का लाभ उठा सकें.

भारत सरकार की मातृ वंदना योजना के तहत 46425 लाभार्थियों के खातों में डाला गया 7 करोड़ से ज्यादा धन


उन्होंने बताया कि योजना गर्भवति महिला को हृष्ट पुष्ट और पूर्ण रूप से पोषित करने के लिए चलाई गई है. इसका सभी गर्भवति महिलाओं को फायदा उठाना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगले एक सप्ताह तक विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से गांव-गांव तक इस योजना के बारे में लोगों को जागरूक किया जाएगा. मातृ वंदन योजना का लाभ ले चुकी महिलाओं के अनुसार यह योजना बहुत अच्छी है. गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में पोषण की कमी नहीं रहती और भविष्य में जच्चा-बच्चा भी स्वस्थ रहते हैं.

 ये भी पढ़ें - मंत्रिमंडल विस्तार पर बोले धवाला : बनाएंगे तो ठीक है, नहीं बनाएंगे तो भी ठीक

ये भी पढ़ें - किन्नौर : यहां एक ही कमरे में पढ़ रहे मिडिल व प्राइमरी स्कूल के बच्चे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 2, 2019, 7:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर