नेशनल हेल्थ मिशन : OMR शीट की कार्बन कॉपी नहीं दिए जाने पर परीक्षार्थियों का गुस्सा फूटा

नेशनल हेल्थ मिशन की ओर से आयोजित परीक्षा के बाद कुछ परीक्षार्थी ओएमआर शीट की कार्बन कॉपी और प्रश्न पत्र लेकर चले गए जबकि कुछ छात्रों को इससे रोका गया तब उनका गुस्सा भड़क उठा.

Nitesh Saini | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 12, 2019, 11:59 AM IST
नेशनल हेल्थ मिशन : OMR शीट की कार्बन कॉपी नहीं दिए जाने पर परीक्षार्थियों का गुस्सा फूटा
गुस्साए परिक्षार्थियोंं ने परीक्षा केंद्र के बाहर हंगामा किया और एनएचएम के खिलाफ नारेबाजी की.
Nitesh Saini
Nitesh Saini | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 12, 2019, 11:59 AM IST
नेशनल हेल्थ मिशन की ओर से रविवार को सुंदरनगर के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला (कन्या) में हेल्थ ग्रिवान्सेस डेस्क सहित अन्य पदों के लिए परीक्षा का आयोजन किया गया. परीक्षा देने आए हुए कुछ परीक्षार्थी प्रश्न पत्र और कार्बन कॉपी अपने साथ लेकर परीक्षा केंद्र से चले गए. इस पर जब अन्य परीक्षार्थियों ने भी अपनी कार्बन कॉपी की मांग की तो आयोजकों ने कॉपी व ओएमआर शीट ले जाने वाले परिक्षार्थियों का टेस्ट रद्द करने की बात कही. इसपर परीक्षार्थी भड़क उठे और केंद्र के बाहर जमकर हंगामा किया और एनएचएम के खिलाफ नारेबाजी भी की. मौके पर माहौल इतना संवेदनशील हो गया कि प्रबंधन को पुलिस बुलानी पड़ी.

परीक्षा रद्द किए जाने की बात पर भड़के परीक्षार्थी

परीक्षा देने आए हुए मंडी के परिक्षार्थी रूपेश, अंकिता व अभिवावक इतिशा सहित अन्य ने परीक्षा आयोजित करवा रही एजेंसी व एनएचएम पर परीक्षा में गड़बड़ी के आरोप लगाए. उन्होंने कहा की परीक्षा समाप्त होने के बाद एग्जामिनेशन कंट्रोलर ने नियमों के विपरीत परीक्षार्थियों से प्रश्न पत्र और ओएमआर शीट की कैंडिडेट कार्बन कॉपी भी वापिस ले ली. उन्होंने कहा कि परीक्षा आयोजित करवाने एजेंसी के अधिकारियों ने प्रश्न पत्र और ओएमआर कॉपी देने से भी मना कर दिया.

उन्होंने कहा कि परीक्षा देने आए हुए कुछ परीक्षार्थी प्रश्न पत्र और कार्बन कॉपी अपने साथ लेकर परीक्षा केंद्र से चले गए. इस पर जब अन्य परिक्षार्थियों ने भी अपनी कार्बन कॉपी की मांग की तो आयोजकों ने कॉपी व ओएमआर शीट ले जाने वाले परिक्षार्थियों का टेस्ट रद्द करने की बात कही. उन्होंने कहा परीक्षा आयोजित करवा रही एजेंसी के इस प्रकार के व्यवहार से परीक्षा में गड़बड़ी की बात साफ हो जाती है.

उन्होंने कहा कि एनएचएम के माधयम से जो भी एग्जाम हो वह सभी क्लियर होने चाहिए. उन्होंने कहा कि कई गरीब परीक्षार्थी कई किलोमीटर की दूरी तय कर परीक्षा देने आए हैं. वहीं परिक्षार्थियों के साथ आए उनके अभिभावकों का कहना है कि परीक्षा देने आए हुए पर सभी परीक्षार्थी अपने आप को ठगा हुआ महसूस कर रहें हैं.

परीक्षार्थियों ने की ये मांग

परिक्षार्थियों ने प्रदेश सरकार व एनएचएम के अधिकारियों से आयोजित परीक्षा को रद्द करने की स्थिति और रिजल्ट निकालने की सूरत में परिक्षार्थियों के प्रश्न पत्र और ओएमआर शीट भी दिखाए जाने की मांग की है. उन्होंने सरकार से यह भी मांग की है कि भविष्य में आयोजित होने वाली परीक्षा उचित रूल एंड रेगुलेशन के अंतर्गत करवाई जाएं।
Loading...

सीनियर मैनेजर का ये है कहना

एसपीसी मैनेजमेंट सर्विसेज प्राईवेट लिमिटेड  सीनियर मैनेजर सपन बर्मन ने मामले की जानकारी देते हुए कहा की परिक्षार्थियों को जारी एडमिट कार्ड पर पहले ही प्रश्न पत्र और ओएमआर शीट वापिस नहीं करने की जानकारी दी गई थी. इसकी एक कॉपी एनएचएम के पास जाएगी और दूसरी कॉपी तीसरी पार्टी के पास जमा होगी. परीक्षार्थी प्रश्न पत्र और ओएमआर शीट अपने रिस्क पर अपने साथ लेकर गए हैं। अगर उन्हें परीक्षा से अयोग्य घोषित किया जाता है तो वह खुद इसके जि मेदार होंगें.

यह भी पढ़ें: हिमाचल के इस शिव मंदिर में दो धर्मों के लोग एक साथ आस्था प्रकट करते हैं

Article 370: कांग्रेस MLA अनिरूद्ध सिंह ने कहा-एक देश में एक ही कानून हो
First published: August 12, 2019, 11:59 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...