Mandi COVID-19 Update: फिर कोविड अस्पताल बना 500 बेड वाला नेरचौक मेडिकल कॉलेज

मंडी का नेरचौक मेडिकल कॉलेज.

मंडी का नेरचौक मेडिकल कॉलेज.

Nerchowk Medical College: नेरचौक मेडिकल में कोविड रोगियों के लिए 500 बेड है. यहां 118 बिस्तरों में ऑक्सीजन की सुविधा है. वहीं प्री-फैब्रिकेडेट कोविड अस्पताल का काम 25 अप्रैल तक पूरा होने के निर्देश सरकार ने संबंधित निर्माण एजेंसी को दिए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 21, 2021, 7:10 AM IST
  • Share this:
मंडी. हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में स्थित लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज नेरचौक को एक बार फिर से कोविड (COVID-19) अस्पताल में परिवर्तित कर दिया गया है. कॉलेज प्रबंधन ने आपात बैठक कर अस्पताल को अनिश्चितकाल के लिए सामान्य रोगियों के लिए बंद कर दिया है और सिर्फ कोरोना मरीजों के लिए खुला रखने का निर्णय ले लिया. हालांकि, यह निर्णय सरकार के आदेशों पर ही लिया गया है. क्योंकि प्रदेश में जिस तरह से रोजाना कोरोना के मरीजों में बढ़ोतरी हो रही है, उसके चलते अस्पतालों की कमी पड़ गई है.

कॉलेज में करीब 179 रोगी उपचाराधीन थे, जिनमें से अधिकतर को उ दूसरे अस्पतालों में शिफ्ट कर दिया गया है और कुछ को छुट्टी देकर घर भेज दिया गया है. बुधवार से यहां सामान्य ओपीडी पूरी तरह से बंद रहेगी. मेडिकल कॉलेज नेरचौक में अब पहले की तरह सात जिलों मंडी, कुल्लू, लाहौल-स्पीति, चंबा, कांगड़ा, हमीरपुर व बिलासपुर के सिर्फ कोरोना संक्रमितों का उपचार होगा.

पहले भी कोविड डेडिकेटिड किया था

सरकार ने पिछले साल लॉकडाउन के बाद 23 मार्च को नेरचौक मेडिकल कॉलेज को डेडिकेटेड कोविड अस्पताल का दर्जा दिया था. इस साल 22 फरवरी को अस्पताल में दोबारा सामान्य ओपीडी शुरू हुई थी. दो महीनों से यहां रोजाना 1000 मरीज ओपीडी में उपचार के लिए पहुंच रहे थे. सर्जरी शुरू होने से कई मरीजों को राहत मिली थी. लेकिन ओपीडी पूरी तरह बंद होने से अब दूसरे मरीजों को दूसरे स्वास्थ्य संस्थानों पर निर्भर रहना पड़ेगा.
क्या बोले अधिकारी

लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य आरसी ठाकुर ने बताया कि सभी एचओडी को निर्देश दे दिए गए हैं कि जो भी बीमार व्यक्ति अस्पताल में एडमिट हैं, उन्हें डिस्चार्ज कर दिया जाए या उनके बीमारी से संबंधित क्षेत्रों में रेफर कर दिया जाए. ब नेरचौक मेडिकल में 500 बेड की व्यवस्था है. यहां 118 बिस्तरों में ऑक्सीजन की सुविधा है. वहीं प्रीफैब्रिकेडेट कोविड अस्पताल का काम 25 अप्रैल तक पूरा होने के निर्देश सरकार ने संबंधित निर्माण एजेंसी को दिए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज