IIT मंडी के गोलमाल का अब हो सकेगा भंडाफोड़, कार्रवाई हुई शुरू

लंबे इंतजार और संघर्ष के बाद अब आईआईटी मंडी में हुए गोलमाल का भंडाफोड़ होने वाला है, जिसको लेकर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कार्रवाई करना शुरू कर दिया है.

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 11, 2019, 4:50 PM IST
IIT मंडी के गोलमाल का अब हो सकेगा भंडाफोड़, कार्रवाई हुई शुरू
IIT मंडी के गोलमाल का अब हो सकेगा भंडाफोड़, कार्रवाई हुई शुरू
Virender Bhardwaj
Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 11, 2019, 4:50 PM IST
लंबे इंतजार और संघर्ष के बाद अब आईआईटी मंडी में हुए गोलमाल का भंडाफोड़ होने वाला है. मंडी के सांसद राम स्वरूप शर्मा द्वारा तीसरी बार सदन में मामला उठाने के बाद अब केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने कार्रवाई करना शुरू कर दिया है. बता दें कि आईआईटी मंडी में भाई-भतीजावाद चरम पर है और इसका खुलासा यहीं के पूर्व कर्मचारी सुजीत स्वामी ने किया था.

अब होगा IIT के गोलमाल का भंडाफोड़

देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में से एक आईआईटी मंडी में हो रहे गोलमाल को लेकर आईआईटी मंडी के पूर्व कर्मचारी सुजीत स्वामी ने आईआईटी में हो रहे गोलमाल का खुलासा किया है. बता दें कि पूर्व कर्मचारी सुजीत स्वामी ने मई 2018 में इसका खुलासा किया था. मीडिया में यह खुलासा करने के बाद उन्हें आईआईटी ने नौकरी से बर्खास्त कर दिया. सुजीत ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, केंद्रीय मानव विकास संसाधन मंत्री और मुख्यमंत्री तक को इसकी शिकायतें भेजी थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. यहां तक की सुजीत स्वामी ने मंडी में धरना प्रदर्शन शुरू किया और विरोध स्वरूप अपने बाल तक मुंडवा लिए, लेकिन फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई.

पूर्व कर्मचारी सुजीत स्वामी ने किया था खुलासा

लेकिन अब आईआईटी प्रबंधन की इन कारगुजारियों का भंडाफोड़ होने का समय आ गया है. मंडी के सांसद राम स्वरूप शर्मा ने बीती 29 जुलाई 2019 को संसद में तीसरी बार यह मामला उठाया. उसके बाद केंद्रीय मानव विकास संसाधन मंत्रालय जागा और कार्रवाई की तरफ कदम आगे बढ़ाए. बता दें कि इससे पहले भी सांसद महोदय 31 जुलाई और 9 अगस्त 2018 को इस मामले को संसद में उठा चुके थे, लेकिन मंत्रालय ने आश्वासन के सिवाय और कुछ नहीं किया.

पूर्व कर्मचारी सुजीत स्वामी ने किया था IIT मंडी में हो रहे गोलमाल का खुलासा (फाइल फोटो)
पूर्व कर्मचारी सुजीत स्वामी ने किया था IIT मंडी में हो रहे गोलमाल का खुलासा (फाइल फोटो)


आईआईटी मंडी पर लगे ये आरोप
Loading...

आईआईटी मंडी पर चहेतों को लाभ पहुंचाने का सबसे बड़ा आरोप है. यहां नियमों को ताक पर रखकर भर्तियां की गई हैं. वहीं आईआईटी ने नियमों के विपरित एक निजी स्कूल को संचालित करने के लिए अपनी करोड़ों की इमारत दे रखी है, जबकि आईआईटी परिसर में सिर्फ केंद्रीय विद्यालय ही संचालित किया जा सकता है.

29 जुलाई को सांसद राम स्वरूप शर्मा ने तीसरी बार सदन में उठाया था मामला
29 जुलाई को सांसद राम स्वरूप शर्मा ने तीसरी बार सदन में उठाया था मामला (फाइल फोटो)


वहीं आईआईटी मंडी पर लगे आरोपों के बाद आईआईटी मंडी के सीवीओ यानी सेंटर विजिलेंस ऑफिसर से पूरे दस्तावेजों के साथ जबाव मांगा है. सुजीत स्वामी ने कार्रवाई शुरू करवाने के लिए मंडी के सांसद राम स्वरूप शर्मा का आभार जताया है. सुजीत स्वामी ने उम्मीद जताई है कि एमएचआरडी पूरे मामले की सही और निष्पक्ष ढंग से जांच करके दोषियों के खिलाफ उचित कार्रवाई अम्ल में लाएगी.

IIT मंडी के सीवीओ से 30 दिनों में मांगा जबाव


बता दें कि इस मामले को लेकर सुजीत स्वामी सहित अन्य लोगों ने हिमाचल हाईकोर्ट में भी जनहित याचिका दायर की है और हाईकोर्ट ने भी आईआईटी मंडी से चार सप्ताह के भीतर जबाव दायर करने का आदेश दिया है. कहा जा सकता है कि आईआईटी मंडी पर अब चौतरफा दबाव बढ़ता जा रहा है और यहां जो भी गोलमाल हुआ है उसके पटाक्षेप का समय आ गया है.

यह भी पढ़ें- मंडी आईआईटी में गोलमाल: आरोप लगाने वाला IIT कर्मी चार्जशीट

यह भी पढ़ें- मंडी आईआईटी के गोलमाल की करवाउंगा उच्च स्तरीय जांच : एमपी रामस्वरूप
First published: August 11, 2019, 4:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...