अब बहरेपन को दूर करने के लिए कान पर नहीं लटकाने पड़ेंगे बड़े-बड़े उपकरण

बहरेपन की स्थिति में सुनने की भारी भरकम मशीनों का बोझ उठा रहे लोगों को जल्दी ही राहत मिलने वाली है.

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: May 25, 2019, 6:06 PM IST
अब बहरेपन को दूर करने के लिए कान पर नहीं लटकाने पड़ेंगे बड़े-बड़े उपकरण
बहरेपन के लिए अब कानों में उपकरण लटकाने की दरकार नहीं होगी
Virender Bhardwaj
Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: May 25, 2019, 6:06 PM IST
बहरेपन की स्थिति में सुनने की भारी भरकम मशीनों का बोझ उठा रहे लोगों को जल्दी ही राहत मिलने वाली है. दुनिया में अब सुनने के माइक्रो उपकरणों का निर्माण किया जा रहा है, जिसे शरीर में इम्पलांट करके सभी झंझटों से छुटकारा पाया जा सकता है. इस बात की जानकारी मोहाली स्थित फोर्टिस के ईएनटी स्पेशलिस्ट डॉ. अशोक गुप्ता ने मंडी में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान दी. उन्होंने कहा कि आज बहरेपन का इलाज संभव है, बशर्ते समय रहते अभिभावक इस तरफ ध्यान दें और बहरेपन से जूझ रहे अपने बच्चों का उपचार करवाएं. उन्होंने बताया कि वह अभी तक 400 से अधिक बच्चों की सफल कॉकलियर इम्पलांट सर्जरी कर चुके हैं.

डॉ. अशोक गुप्ता ने बताया कि केंद्र सरकार ने बहरेपन से जूझ रहे लोगों के उपचार के लिए एडीआईपी के नाम से योजना की शुरूआत की है. इस योजना के तहत पांच लाख तक के खर्चे को सरकार द्वारा वहन किया जाता है.

उन्होंने बताया कि यदि कोई बीपीएल परिवारों की श्रेणी में आता है तो उसका सारा खर्च सरकार ही देती है. अधिकतर लोगों को इसकी जानकारी नहीं होने के कारण वह इस योजना का लाभ नहीं उठा पाते हैं. उन्होंने बहरेपन से जूझ रहे लोगों से सरकार की इस योजना का पूरा लाभ उठाने का आह्वान किया है.

यह भी पढ़ें: भूतनाथ पुल की मजिस्ट्रेट जांच अधूरी, कुल्लू के डीसी ने दिए दोबारा जांच के आदेश

लहसुन की बंपर फसल से खिले किसानों के चेहरे, आमदनी बना जरिया
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...