सुंदरनगर: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के नाम पर नौकरी का झांसा, 7 लोगों से ठगे 22 लाख रुपये
Mandi News in Hindi

सुंदरनगर: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के नाम पर नौकरी का झांसा, 7 लोगों से ठगे 22 लाख रुपये
सुंदरनगर में पुलिस को शिकायत देते पीड़ित.

शिकायतकर्ता ने कहा कि आरोपी मोहन लाल ने बीते वर्ष अक्तूबर माह में उन्हें केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ नजदीकी संबंध होने की बात बताई गई. इस पर आरोपी ने उन्हें वन विभाग में बतौर वन रक्षक नौकरी पर दिलाने का वायदा किया.

  • Share this:
सुंदरनगर (मंडी). देश में दिन-प्रतिदिन ठगी की वारदातें बढ़ती जा रही हैं. कहीं लोग ऑनलाइन ठगी का शिकार हो रहे हैं तो कहीं नौकरी (Jobs) दिलाने के नाम पर लोग लाखों रुपए लूटा रहे हैं. ऐसा ही वाकया हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के मंडी (Mandi) जिला में भी देखने को मिला है. यहां गांव के ही एक सख़्श ने नौकरी दिलाने के नाम पर कुछ लोगों को अपने जाल में फंसा कर लगभग 22 लाख रुपए की ठगी कर डाली. अब पीड़ितों ने मामले की शिकायत पुलिस (Police) को सौंपी है और दोषियों के खिलाफ उचित कार्यवाही की मांग की है.

जान से मारने की धमकी भी दी
शिकायतकर्ता जितेंद्र कुमार पुत्र नंदलाल ने कहा कि वे निहरी तहसील के अंतर्गत गांव कंमाद के रहने वाले हैं और उनके एक रिश्तेदार मोहन लाल पुत्र खेमराज निवासी गांव खील, डाकघर धरमौड़ तहसील करसोग जिला मंडी द्वारा उन्हें और अन्य 6 लोगों को सरकारी नौकरी दिलाने का वायदा किया. उन्होंने कहा कि आरोपी से जब उनके द्वारा दिए गए पैसे वापिस लौटाने को कहा तो उन्हें ही जान से मारने की धमकी दी.

अनुराग से नजदीकी बताकर ठगे पैसे
शिकायतकर्ता ने कहा कि आरोपी मोहन लाल ने बीते वर्ष अक्तूबर माह में उन्हें केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ नजदीकी संबंध होने की बात बताई गई. इस पर आरोपी ने उन्हें वन विभाग में बतौर वन रक्षक नौकरी पर दिलाने का वायदा किया. आरोपी ने शिकायतकर्ता को एक नौकरी दिलाने की एवज में 3 लाख रुपयों की मांग की गई.



बैंक में जमा करवाए पैसे
शिकायतकर्ता द्वारा पुलिस को दी गई शिकायत में कहा है कि उनके द्वारा बीते 9 अक्तूबर को हिमाचल ग्रामीण बैंक रोहांडा से आरोपी के पीएनबी करसोग के खाते में एक लाख 20 हजार,17 अक्तूबर को 55 हजार,25 अक्तूबर को 52 हजार और 7 नवंबर को 20 हजार रुपए नेफ्ट (NEFT) के माध्यम से ट्रांसफर किए गए. जितेंद्र कुमार ने कहा कि इस प्रकार उनके द्वारा आरोपी को बैंक ट्रांसफर के माध्यम से 2 लाख 50 हजार रुपए भेजे गए. इसके अलावा, उन्होंने आरोपी मोहन लाल को इस वर्ष 27 मार्च को 20 हजार पेटीएम और 8 व 4 लाख रूपए कैश दिए गए. इस प्रकार उन्होंने आरोपी को 14 लाख 70 हजार रुपयों की भारीभरकम रकम दे दी गई, लेकिन आज दिन तक ना ही उन्हें पैसे और न ही उन्हें आरोपी द्वारा नौकरी दी गई. इससे आरोपी द्वारा उनके साथ लाखों की ठगी को अंजाम दिया गया.

कुल 22 लाख रुपये की ठगी
जितेंद्र कुमार ने कहा कि आरोपी मोहन लाल द्वारा उनके अलावा आशीष निवासी जींद, हरियाणा हाल कैशियर हिमाचल ग्रामीण बैंक शाखा रोहांडा, महेंद्र कुमार निवासी मांहूनाग,जिला मंडी, करताप सिंह निवासी द्रंग,जिला मंडी, शेर सिंह निवासी निरमंड, जिला कुल्लू, सीता राम व मदन लाल निवासी कसौली जिला सोलन से भी नौकरी दिलवाने की एवज में 7 लाख 20 हजार रुपए ऐंठ कर कुल 22 लाख रुपयों की ठगी को अंजाम दिया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज