आपदा में अवसर! कोरोना काल में हिमाचल स्वास्थ्य विभाग ने ₹15,750 में खरीदा ₹9100 का ऑक्सीजन सिलेंडर

हिमाचल मेे कोरोना संकट.
हिमाचल मेे कोरोना संकट.

मामलो के लेकर शिकायत सभी दस्तावेजों और अधिकारियों के नामों के साथ प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव, स्वास्थ्य सचिव और स्वास्थ्य निदेशक को भेज दी है. इन्होंने मामले की निष्पक्ष जांच की मांग उठाई है.

  • Share this:
मंडी. हिमाचल प्रदेश में कोरोना काल (Corona Virus) से सवालों के घेरे में घिर रहे प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य विभाग पर अब एक और गंभीर और संगीन आरोप लगा है. आरोप है कि 9100 रूपए में मिलने वाले ऑक्सीजन (Oxygen) गैस सिलेंडर को स्वास्थ्य विभाग ने 15750 में खरीदा. दिल्ली की एक फर्म को लाभ पहुंचाने के लिए सरकारी खजाने को चपत लगा डाली. दस्तावेजों के साथ यह आरोप मंडी (Mandi) जिला में मांडव्य एयर इंडस्ट्री और आरडी गेस प्राईवेट लिमिटेड के संचालकों सुधांषू कपूर और आरपी कपूरे ने पत्रकार वार्ता के दौरान लगाए.

क्या आरोप लगाए
संचालकों सुधांषू कपूर और आरपी कपूरे का कहना है कि प्रदेश में जो फर्में ऑक्सीजन गैस की सप्लाई करती हैं, वह काफी कम दरों पर यह सप्लाई प्रदेश के अस्पतालों में वर्षों से दे रही हैं, जिसमें इनकी फर्में भी शामिल हैं, लेकिन स्वास्थ्य विभाग के उच्चाधिकारियों ने प्रदेश की फर्मों के खिलाफ साजिश रचते हुए सीपीडब्ल्यूडी के माध्यम से दिल्ली की एक फर्म को लाभ पहुंचाने के मकसद से महंगे दामों पर ऑक्सीजन गैस सिलेंडर खरीदे.

संचालक सुधांषू कपूर और आरपी कपूर.

महंगे दामों पर खरीदी ऑक्सीजन


जिस ऑक्सीजन गैस सिलेंडर की सप्लाई इनकी फर्म 9100 रूपए में देती है, उसे स्वास्थ्य विभाग ने 15750 रूपए में जबकि 13500 रूपए की कीमत वाले सिलेंडर को 18500 रूपए में खरीदा गया. सुधांषू कपूर का कहना है कि अधिकारी प्रदेश की फर्मों को टारगेट करके सरकार की छवि को खराब करने की साजिश रच रहे हैं.



सीएम और विभाग से शिकायत
सुधांषू कपूर का कहना है कि उच्चाधिकारियों ने यह सारा काम मिलीभगत से किया है. इनके रेट जानने के बाद इन्हें काम ने देकर सीपीडब्ल्यूडी के माध्यम से ऑक्सीजन गैस के सिलेंडर महंगे दामों पर खरीदे गए. इन्होंने इसकी एक शिकायत सभी दस्तावेजों और अधिकारियों के नामों के साथ प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव, स्वास्थ्य सचिव और स्वास्थ्य निदेशक को भेज दी है. इन्होंने मामले की निष्पक्ष जांच की मांग उठाई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज