अपना शहर चुनें

States

Mandi News: CM जयराम के गृहजिला मंडी में 3 नगर निकाय पर BJP, दो पर कांग्रेस का कब्जा

मंडी में नगर निकाय के लिए जोड़तोड़.
मंडी में नगर निकाय के लिए जोड़तोड़.

Panchayat Elections in Himachal: 7 सदस्यों वाली नगर परिषद सरकाघाट में भी भाजपा ने जोड़ तोड़ करके अपना अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बना दिया. कांग्रेस की अनुप कुमारी को भाजपा ने न सिर्फ अपने खेमे में जोड़ा, बल्कि उन्हें नगर परिषद का अध्यक्ष बना डाला.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 21, 2021, 10:34 AM IST
  • Share this:
मंडी. हिमाचल प्रदेश में 10 जनवरी को नगर निकायों के चुनाव संपन्न होने के साथ ही परिणाम भी घोषित हो चुके थे, जिसके बाद अब अध्यक्ष और उपाध्यक्षों को लेकर भाजपा और कांग्रेस में काफी माथापच्ची चल रही थी. सीएम के गृहजिला मंडी की बात करें तो यहां 3 नगर निकायों पर भाजपा ने अपना झंडा गाड़ा है, जबकि दो पर कांग्रेस ने और एक नगर निकाय निर्दलीयों के हवाले हो गया है.

सुंदरनगर में भाजपा का पूर्ण बहुमत से कब्जा
मौजूदा समय में मंडी जिला की सबसे बड़ी नगर परिषद के रूप में उभर कर सामने आए सुंदरनगर शहर पर भाजपा का पूर्ण बहुमत के साथ कब्जा है. यहां के 13 में से 10 वार्डों पर भाजपा समर्थित पार्षदों की जीत हुई है जबकि कांग्रेस को सिर्फ 3 सीटें मिली हैं. भाजपा के जितेंद्र शर्मा को अध्यक्ष और रक्षा धीमान को उपाध्यक्ष का दायित्व सौंपा गया है.

नेरचौक में किस्मत जीता गई भाजपा को
आपने सुना होग कि ’’भाई किस्मत हो तो ऐसी.’’ यह कहावत नगर परिषद नेरचौक में पूरी तरह से चरितार्थ हुई. नगर परिषद नेरचौक में 9 वार्ड हैं, जिसमें से 8 वार्डों से प्रत्याशी चुनकर आए हैं जबकि एक वार्ड के लोगों ने मतदान का बहिष्कार कर दिया था. यहां 4 प्रत्याशी भाजपा समर्थित तो 4 ही कांग्रेस समर्थित थे. जब अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के चुनाव की बारी आई तो दोनों दलों के प्रत्याशियों को बराबर वोट पड़े. इसके बाद पर्ची डालकर अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का चुनाव किया गया. कांग्रेस के एक पार्षद ने अध्यक्ष और उपाध्यक्ष की पर्चियां उठाई और किस्मत से दोनों पर्चियां भाजपा समर्थित प्रत्याशियों की ही निकली. भाजपा की शालिनी राणा को अध्यक्ष और परमदेव उर्फ बंटी को उपाध्यक्ष का पद किस्मत से मिल गया, जबकि कांग्रेस की नर्वदा अभिलाषी और अभिषेक का किस्मत ने साथ नहीं दिया.



सरकाघाट में कांग्रेसी को भाजपा ने अपना बनाकर बना दिया अध्यक्ष
7 सदस्यों वाली नगर परिषद सरकाघाट में भी भाजपा ने जोड़ तोड़ करके अपना अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बना दिया. कांग्रेस की अनुप कुमारी को भाजपा ने न सिर्फ अपने खेमे में जोड़ा, बल्कि उन्हें नगर परिषद का अध्यक्ष बना डाला. भाजपा के ध्यान सिंह को उपाध्यक्ष बनाया गया. पहले यहां चार पार्षद कांग्रेस के थे और तीन बीजेपी के. लेकिन विधायक कर्नल इंद्र सिंह ने ऐन मौके पर कांग्रेस की अनुप कुमारी को अपने खेमे में शामिल करके बाजी पलट दी.

नगर परिषद जोगिंद्रनगर में कांग्रेस का कब्जा
नगर परिषद जोगिंद्रनगर के 7 वार्डों में से चार पर कांग्रेस प्रत्याशी जीतकर आए थे और इसी आधार पर यहां कांग्र्रेस को पूर्ण बहुमत प्राप्त था. यहां कांग्रेस ने ममता कुमारी को अध्यक्ष और अजय धरवाल को उपाध्यक्ष चुन लिया है.

नगर पंचायत रिवालसर में अध्यक्ष कांग्रेस का और उपाध्यक्ष निर्दलीय
7 वार्डों वाली नगर पंचायत रिवालसर में कांग्रेस के 5 पार्षद चुनकर आए थे लेकिन बावजूद इसके निर्दलीय को उपाध्यक्ष का पद मिल गया. चुनकर आए 5 पार्षदों में से एक ने कांग्रेस के साथ चलने से इनकार कर दिया. यहां अध्यक्ष पद को लेकर कांग्रेस के ही दो प्रत्याशियों में मुकाबला शुरू हो गया. कांग्रेस की रीता देवी और सुनीता गुप्ता ने अध्यक्ष पद के लिए अपना नामांकन भरा था लेकिन बाद में सुनीता गुप्ता ने अपना नाम वापिस ले लिया, जिसके चलते रीता देवी को निर्विरोध अध्यक्ष चुन लिया गया, जबकि निर्दलीय के तौर पर जीतकर आए कश्मीर सिंह यादव को उपाध्यक्ष पर निर्विरोध चुना गया.

नगर पंचायत करसोग पर निर्दलियों का कब्जा
7 वार्डों वाली नगर पंचायत करसोग में निर्दलियों ने कब्जा जमाया है. हालांकि निर्दलीय बनकर अध्यक्ष पद की कुर्सी हथियाने वाली भाजपा नेत्री को पार्टी ने 6 वर्षों के लिए बाहर का रास्ता भी दिखा दिया है. यहां 6 वार्डों में चुनाव हुए और एक वार्ड के लोगों ने मतदान का बहिष्कार किया. 6 में से 4 पार्षद भाजपा समर्थित थे जबकि दो निर्दलीय थे. अध्यक्ष पद पर काबिज हुई सीमा गुप्ता ने अध्यक्ष पद के लिए पार्टी को किनारे कर दिया, जबकि निर्दलीय के रूप में चुनकर आए बंसी लाल को उपाध्यक्ष पद मिल गया. सीमा गुप्ता को पार्टी ने बाहर कर दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज