Politics of Mandi: सुखराम परिवार के बाद अब CM जयराम के निशाने पर कौल सिंह ठाकुर

सीएम जयराम ठाकुर, पंडित सुखराम औरकांग्रेस नेता कौल सिंह.

सीएम जयराम ठाकुर, पंडित सुखराम औरकांग्रेस नेता कौल सिंह.

Politics of Mandi: सीएम जयराम ठाकुर के गृहक्षेत्र वाली इस सीट पर जो उपचुनाव होने जा रहा है,उसमें भाजपा को न सिर्फ जीत कायम रखने की बल्कि अधिक से अधिक लीड़ बरकरार रखने की बड़ी चुनौती है.

  • Share this:
मंडी. हिमाचल प्रदेश के मंडी (Mandi) जिले में नगर निगम चुनावों में सुखराम परिवार को उनके घर पर मात देने के बाद अब जयराम ठाकुर के निशाने पर मंडी जिला से कांग्रेस के दूसरे सबसे बड़े नेता कौल सिंह ठाकुर आ गए हैं. जयराम ठाकुर कौल सिंह ठाकुर पर जुबानी हमला बोलने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं. मंडी में होने जा रहे लोकसभा के उपचुनाव से ठीक पहले जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) ने कौल सिंह ठाकुर को घेरना शुरू कर दिया है. शायद यही कारण रहा कि उन्होंने हिमाचल दिवस का राज्य स्तरीय कार्यक्रम उस स्थान पर रखा, जिसे एक तरह से कौल सिंह ठाकुर (Kaul Singh) का गढ़ माना जाता है. कौल सिंह ठाकुर के घर पर पहुंचकर जयराम ठाकुर ने बड़े कड़े लहजे में कौल सिंह ठाकुर पर जुबानी हमला बोलकर इस बात का संदेश दे दिया कि अब उनके निशाने पर वो ही हैं.

क्या बोले थे सीएम

हरडगलू में आयोजित जनसभा में में जयराम ठाकुर ने स्पष्ट कहा कि जिन्होंने उन्हें छेड़ा वो आजकल वृंदावन चले गए हैं और कौल सिंह ठाकुर को भी स्पष्ट संदेश दे दिया कि उन्हें ज्यादा न छेड़ें, नहीं तो परिणाम घातक होंगे। हालांकि कौल सिंह ठाकुर ने भी इसका पलटवार किया लेकिन जयराम ठाकुर के कड़े तेवर अब भी नजर आ रहे हैं.

नगर निगम चुनावों में मिली जीत से हौंसले बुलंद
प्रदेश की चार नगर निगमों के परिणाम चाहे जो भी रहे हों, लेकिन जयराम ठाकुर को उनके घर में जो जीत मिली उससे उनके हौंसले बुलंद हो गए हैं. नगर निगम चुनावों के दौरान उन्होंने अपने निशाने पर सुखराम परिवार को रखा और मंडी शहर की जनता ने इस बात पर सीएम का साथ भी दिया. एक तरह से जयराम ठाकुर ने सुखराम परिवार को इन चुनावों से काफी बैकफुट पर लाकर खड़ा कर दिया है और परिणामों से वो यह समझ गए हैं कि उनके जिले की जनता अब उनके साथ है.

उपचुनाव से पहले विरोधियों को पस्त करने का काम शुरू

सांसद राम स्वरूप शर्मा के निधन के कारण मंडी संसदीय क्षेत्र पर अब जल्द ही उपचुनाव होने जा रहा है. इस उपचुनाव में मंडी जिला ही अहम भूमिका भी निभाएगा क्योंकि इस जिले के 9 विधानसभा क्षेत्र मंडी संसदीय क्षेत्र में आते हैं. सुखराम के बाद कौल सिंह ठाकुर कांग्रेस का मंडी जिला में दूसरा बड़ा चेहरा हैं. दो बार प्रदेशाध्यक्ष रह चुके हैं और पूर्व में कई बार मंत्रीपद भी संभाल चुके हैं. कांग्रेस की तरफ से सीएम पद के दावेदार भी हैं. कौल सिंह ठाकुर का जिला में अपना एक रूतबा है और उपचुनावों में उनका यह रूतबा भाजपा के भारी साबित हो सकता है. क्योंकि इस बार 2019 में हुए आम चुनावों जैसे हालात नहीं रहे हैं. यही कारण है कि जयराम ठाकुर ने कौल सिंह ठाकुर को अभी से घेरना शुरू कर दिया है.



उपचुनाव में जीत के साथ लीड़ कायम रखना जयराम के लिए चुनौती

मंडी लोकसभा सीट पर 2019 में हुए आम चुनावों में भाजपा प्रत्याशी स्व. राम स्वरूप शर्मा ने ऐतिहासिक 4 लाख 5 हजार मतों के अंतर से जीत हासिल की थी. यह जीत अप्रत्याशित थी. सीएम जयराम ठाकुर के गृहक्षेत्र वाली इस सीट पर जो उपचुनाव होने जा रहा है,उसमें भाजपा को न सिर्फ जीत कायम रखने की बल्कि अधिक से अधिक लीड़ बरकरार रखने की बड़ी चुनौती है. इस चुनौती से पार पाना जयराम ठाकुर के लिए आसान नहीं होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज