रिटायर IAS तरुण श्रीधर का सम्मान, पशुओं का डाटाबेस बनाने के जनक हैं

तरूण श्रीधर (IAS Tarun Shridhar) ने कहा कि मंडी में बिताया समय उन्हें हमेशा याद आता है और यहां के लोग हमेशा मेहमानवाजी के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने रिटायरमेंट के बाद सम्मान देने के लिए एसो. का आभार जताया और सभी मंडी वासियों को अपनी शुभकामनाएं दी.

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 27, 2019, 5:33 PM IST
रिटायर IAS तरुण श्रीधर का सम्मान, पशुओं का डाटाबेस बनाने के जनक हैं
मंडी में तरुण श्रीधर का सम्मान समारोह किया गया.
Virender Bhardwaj
Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 27, 2019, 5:33 PM IST
कुछ अधिकारी ऐसे होते हैं, जो जनता के दिलों पर अपनी अमिट छाप छोड़ जाते हैं. ऐसे अधिकारी तबादला या रिटारमेंट होने के बाद भी नहीं भुलाए जाते. ऐसे ही अधिकारियों की श्रेणी में शामिल हैं रि. आईएएस तरूण श्रीधर. तरूण श्रीधर (IAS Tarun Shridhar) वर्ष 1993 से 1997 तक चार वर्षों तक डीसी मंडी (DC Mandi) के पद पर रहे. यह इकलौते आईएएस हैं, जिन्होंने चार वर्षों तक मंडी जिला में बतौर डीसी अपनी सेवाएं दी. इस दौरान उन्होंने आम जन के लिए जो कार्य किए, यहां की जनता उन्हें आज भी याद करती है.

हाल ही में हुए रिटायर
हाल ही में तरूण श्रीधर भारत सरकार के पशु पालन मंत्रालय से बतौर सचिव रिटायर हुए. इनकी रिटायरमेंट के बाद पेंशनर वेल्फेयर एसो. ने इसके सम्मान में विशेष समारोह का आयोजन किया. आज मंडी के विपाशा सदन में तरूण श्रीधर को एसो. की तरफ से सम्मानित किया गया. सम्मान समारोह में पहुंचने पर तरूण श्रीधर का सभी ने गर्मजोशी से स्वागत किया. इसमें डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर सहित जिला के अन्य प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद रहे.

मंडी हमेशा याद आता है: तरूण श्रीधर

तरूण श्रीधर ने कहा कि मंडी में बिताया समय उन्हें हमेशा याद आता है और यहां के लोग हमेशा मेहमानवाजी के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने रिटायरमेंट के बाद सम्मान देने के लिए एसो. का आभार जताया और सभी मंडी वासियों को अपनी शुभकामनाएं दी.

पशुओं का डाटाबेस बनाने के जनक
तरूण श्रीधर एक आईएएस (IAS) के नाते जहां भी गए वहां उस कार्य को बखूबी निभाया. हिमाचल प्रदेश में एसीएस के रूप में सेवाएं देने के बाद उन्हें भारत सरकार के पशु पालन मंत्रालय में बतौर सचिव नियुक्ति मिली. इस दौरान उन्होंने देश भर के पशुओं का डाटाबेस बनाने का निर्णय लिया और इस कार्य को शुरू करवाया. तरूण श्रीधर बताते हैं कि अभी तक देश के ढाई करोड़ पशुओं का डाटाबेस तैयार कर लिया गया है और अब यह कार्य लगातार जारी है. उन्होंने बताया कि इंसानों की तरह पशुओं का भी एक कार्ड बनाया जा रहा है, जिसमें पशु की संपूर्ण जानकारी सम्मिलित की जा रही है.
Loading...

ये भी पढ़ें: सेक्स वीडियो: पू्र्व BJYM नेता-पत्नी और शिकायतकर्ता गिरफ्तार

HPTDC मामला: कांग्रेस ने 1995 में लीज पर दिया था Wild Flower

चंबा का भरमौर-हड़सर रोड बहाल, फिर शुरू हुई मणिमहेश यात्रा

हीरा लाल मर्डर केस: 24 घंटे में आरोपी दर्शन सिंह गिरफ्तार

मंडी कॉलेज में ABVP-SFI में तनाव, QRT तैनात, आउटसाइडर खदेड़े

11वीं में छोड़ी पढ़ाई, 18 साल के हिमाचली युवक ने बनाया रोबोट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 5:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...