मंडी : NH-21 पर हर मुसाफिर क्यों कहता है ‘तनडोले, मेरा मनडोले’

News18Hindi
Updated: October 13, 2017, 3:50 PM IST
मंडी : NH-21 पर हर मुसाफिर क्यों कहता है ‘तनडोले, मेरा मनडोले’
बल्ह क्षेत्र में हाईवे पर पड़े गड्ढे.
News18Hindi
Updated: October 13, 2017, 3:50 PM IST
मंडी में नेशनल हाईवे-21 पर सफर करते वक्त जब आपका ‘तन’ और ‘मन’ दोनों डोलने लग जाए तो समझ लीजिये कि आप बल्ह विधानसभा क्षेत्र में प्रवेश कर चुके हैं. यहां पर नेशनल हाइवे की हालत इनती दयनीय है कि आए दिन हादसे हो रहे हैं. इलाके के मंत्री इसके लिए केंद्र सरकार को जिम्मेवार ठहरा रहे हैं.

चंडीगढ़ से मनाली के लिए जाने वाले इस हाईवे-21 पर सफर करना जोखिम भरा है. हालत यह है कि समझ नहीं आता कि यहां नेशनल हाईवे पर गड्ढे हैं या गड्ढ़ों में हाईवे. वाहन चालक गड्ढ़ों से बचने के चक्कर में कभी वाहन सड़क से बाहर भी निकाल देते हैं.

इस कारण हादसा हो जाता ह. दोपहिया वाहन चालक तो कई बार सीधे गड्ढों में ही घुसकर चोटिल हो चुके हैं. शिमला या चंडीगढ़ से मंडी पहुंचने वाले सभी नेता और अधिकारी यहीं से होकर गुजरते हैं फिर भी कोई इसकी दयनीय हालत को सुधारने की जहमत नहीं उठा रहा है. गड्ढे इतने बड़े-बड़े हैं कि इनमें गाड़ी का टायर चले जाने पर पुर्जें तक टूट जाते हैं.

नेशनल हाइवे पर वाहनों की जो रफ्तार होती है, उसपर ब्रेक लगाने का काम यह गड्ढे जरूर कर रहे हैं. जब मजबूरी में आपको गड्ढों से वाहन को गुजारना पड़ता है तो उस वक्त गाड़ी में बैठे लोगों का तन और मन डोलने लगता है. स्थानीय निवासी नवीन कुमार और सुधीर राणा का कहना है कि बीते कुछ समय में हाईवे की हालत और भी दयनीय हो गई है, जबकि इसकी दशा सुधारने की कोई जहमत नहीं उठाई जा रही है.

बल्ह के विधायक एवं कैबिनेट मंत्री प्रकाश चौधरी ने इसका सारा ठीकरा केंद्र सरकार पर फोड़ दिया. मंत्री जी के अनुसार, हाईवे केंद्र सरकार के अधीन है और इसकी देखरेख उन्हीं का जिम्मा है.

उन्होंने अपना फर्ज निभाते हुए अधिकारियों को इसकी दयनीय हालत से सूचित कर दिया है, लेकिन सुधार नहीं करवा सके, मंत्री जी मानते हैं कि फोरलेन के निर्माण के कार्य हाईवे की यह हालत है.

बहरहाल, अब यह केंद्र सरकार की नाकामी है या राज्य सरकार की, इसका फैसला अब जनता चुनावों में करने वाली है.
First published: October 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर