अर्धसैनिक बल में असिस्टेंट कमांडेंट बने सरकाघाट के पंकज ठाकुर

पंकज और उसके परिवार को बधाई देने वालों का घर पर तांता लगा हुआ है.

News18 Himachal Pradesh
Updated: August 5, 2019, 9:46 AM IST
अर्धसैनिक बल में असिस्टेंट कमांडेंट बने सरकाघाट के पंकज ठाकुर
पंकज ठाकुर. (फाइल फोटो)
News18 Himachal Pradesh
Updated: August 5, 2019, 9:46 AM IST
देशहिमाचल प्रदेश के मंडी जिला के सरकाघाट उपमंडल के कठोगण गांव निवासी 23 वर्षीय पंकज ठाकुर भारतीय अर्धसैनिक बल में बतौर असिस्टेंट कमांडेंट चुने गए हैं. यूपीएससी की परीक्षा को सफलतापूर्वक उतीर्ण करने के बाद उन्हें इस पद के लिए चुना गया है.

6 बार एनडीए और सीडीएस की परीक्षा दी
इससे पहले, पंकज ने 6 बार एनडीए और सीडीएस की परीक्षा दी, लेकिन हर बार पर्सनल इंटरव्यू से बाहर होना पड़ा. पंकज ने हार नहीं मानी और अपने दादा से मिली प्रेरणा पर आगे बढ़ते हुए अब अर्धसैनिक बल में बतौर असिस्टेंट कमांडेंट कामयाबी हासिल की. पंकज के पिता जगदीश ठाकुर हिमाचल पुलिस में बतौर एएसआई कार्यरत हैं, जबकि माता रीता देवी गृहणी हैं. बड़े भाई अनुपम ठाकुर भारतीय वायुसेना में गरूड़ कमांडो के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं.

दादा सेना से रिटायर

वर्ष 2018 में अनुपम ठाकुर जम्मू कश्मीर के बांदीपुरा में तैनात थे और उस दौरान उन्होंने कई आतंकियों को मौत की नींद सुलाने का काम किया था. पंकज के चचेरे भाई मनोज ठाकुर हिमाचल पुलिस में बतौर हेड कांस्टेबल हैं. यह वही मनोज ठाकुर हैं जिनकी कविता ’’कश्मीर तो होगा लेकिन पाकिस्तान नहीं होगा’’ ने देश भर में वाहवाही बटोरी थी. पंकज के दादा भारतीय सेना से रिटायर हुए. उन्हें देखकर पंकज में भी देश सेवा का जज्बा बचपन से ही जाग गया था.

गांव से पढ़ाई
पंकज की प्रारंभिक शिक्षा गांव के स्कूल से ही हुई और उसके बाद उनका चयन सैनिक स्कूल सुजानपुर टिहरा के लिए हुआ. यहां से प्लस टू करने के बाद पंकज ने एमएलएसएम कालेज सुंदरनगर से बीएसई की. इसके 6 बार एनडीए और सीडीएस की परीक्षा उतीर्ण की लेकिन हर बार पर्सनल इंटरव्यू से बाहर होना पड़ा. आखिरकार, पंकज को सफलता मिली और अब उनका चयन भारतीय अर्धसैनिक बल में बतौर असिस्टेंट कमांडेंट हुआ है. पंकज की इस कामयाबी से न सिर्फ घर में बल्कि गांव में भी उत्साह का माहौल देखने को मिल रहा है. पंकज और उसके परिवार को बधाई देने वालों का घर पर तांता लगा हुआ है.
Loading...

ये भी पढ़ें: HPU के प्रोफेसरों को नहीं भा रहा पढ़ाना और शोध कराना

सीएम चंबा के दो दिवसीय दौरे पर, शिलान्यासों की लगई झड़ी

देखिये क्यों, ऊना के गबरू एवी का 'सच्चा प्यार' मचा रहा धमाल

'50 हजार करोड़ कर्ज चंदन और खैर चुटकी में खत्म करा देगा'

'ग्लोबल इन्वेस्टर के हाथों प्रदेश बेचने की तैयारी'

#MISSION PAANI पानी बचाने के काम में जुटे इस पंचायत के लोग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 5, 2019, 9:37 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...