लाइव टीवी

देव समागम है शिवरात्रि महोत्सव, शोभायात्रा में प्राचीन परंपराओं का होगा निर्वहन
Mandi News in Hindi

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: February 7, 2020, 2:55 PM IST
देव समागम है शिवरात्रि महोत्सव, शोभायात्रा में प्राचीन परंपराओं का होगा निर्वहन
मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने कहा कि मंडी शिवरात्रि महोत्सव से प्राचीन परंपराएं जुड़ी हुई हैं. इन्हें जीवंत रखने का बीड़ा हम सब पर है.

मंडी अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि (Shivaratri ) महोत्सव में प्राचीन जलेब (शोभायात्रा) की परंपराओं का निर्वहन किया जाएगा. इस परंपरा (Tradition) को शिवरात्रि महोत्सव की मार्गदर्शिका में भी शामिल किया जाएगा ताकि भविष्य में इस परंपरा का निर्वहन हो सके.

  • Share this:
मंडी. अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि (Shivaratri ) महोत्सव में प्राचीन जलेब (शोभायात्रा) की परंपराओं का निर्वहन किया जाएगा. राज माधव राय की पालकी अब परंपराओं के मुताबिक जलेब की रौनक के साथ पड्डल से वापस मंदिर तक भी पहुंचाई जाएगी. इस तरह जलेब की शुरुआत की भांति वापसी भी भव्य होगी. मंडी (Mandi) में डीआरडीए भवन में अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव 2020 की तैयारियों की समीक्षा बैठक के बाद जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि शिवरात्रि महोत्सव देव समागम है और इस महोत्सव से प्राचीन परंपराएं (Ancient traditions) जुड़ी हुई हैं. इन्हें जीवंत रखने का बीड़ा हम सब पर है.

पंरपरा को दोबारा जीवंत किया जाएगा

मंत्री ने कहा कि इस बार शिवरात्रि महोत्सव के मुख्य आकर्षण जलेब में प्राचीन परंपराओं का निर्वहन किया जाएगा, जिसमें राज माधो राय की जलेब वापसी में भी भव्य होगी. जलेब की वापसी में राज माधो राय की पालकी अकेली नहीं चलेगी. देवी देवताओं के साथ जलेब में शिरकत करने वाले मंत्री भी वापस लौटेंगे. इस तरह पंरपरा दोबारा जीवंत किया जाएगा. उन्होंने इस परंपरा को शिवरात्रि महोत्सव की मार्गदर्शिका में भी शामिल करने के लिए कहा ताकि भविष्य में इस परंपरा का निर्वहन हो सके.

समीक्षा बैठक में बड़ा देव कमरूनाग के बैठने के स्थान को लेकर भी विचार विमर्श किया गया.


बड़ा देव कमरूनाग के बैठने के लिए किया जाएगा भव्य इंतजाम

समीक्षा बैठक में बड़ा देव कमरूनाग के बैठने के स्थान को लेकर भी विचार विमर्श किया गया. इस दौरान सुझाव दिया गया कि बड़ा देव कमरूनाग के लिए पड्डल में बड़ा सिंहासन बनाया जाए. हालांकि इस सुझाव पर अब देव समाज चर्चा करेगा और फैसला लिया जाएगा. जल शक्ति मंत्री ने बताया कि अगर बड़ा देव कमरूनाग टारना में ही विराजमान होना चाहते हैं तो वहां भी उनके बैठने का भव्य इंतजाम किया जाएगा.

बता दें कि अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव 2020 आगामी 22 से 28 फरवरी तक मनाया जाएगा. महोत्सव के लिए प्रशासन ने तैयारियां शुरू कर दी है. महोत्सव के दौरान तीन जलेब निकाली जाती हैं, जो मुख्य आकर्षण रहती हैं.ये भी पढ़ें - राष्ट्रीय वैटलिफ्टिंग चैंपियनशिप:हिमाचल के विकास ने लगातार 7वीं बार जीता खिताब

ये भी पढ़ें - पिता चाहते थे दोनों बेटे फौज में जाएं, सोहन और मोहन ने पूरा किया सपना

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 7, 2020, 2:55 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर