अपना शहर चुनें

States

विश्व पर्यावरण दिवस : बीते 18 वर्षों में श्रद्धानंद लगा चुके हैं 25 हजार पौधे

प्रकृति प्रेमी श्रद्धानंद
प्रकृति प्रेमी श्रद्धानंद

हिमाचल प्रदेश में श्रद्धानंद की प्रकृति के प्रति अगाध श्रद्धा देखते नहीं बनती. उनकी श्रद्धा का अंदाजा सिर्फ इस बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने बीते 18 वर्षों में करीब 25 हजार पौधा लगाया है.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश में श्रद्धानंद की प्रकृति के प्रति अगाध श्रद्धा देखते नहीं बनती. उनकी श्रद्धा का अंदाजा सिर्फ इस बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने बीते 18 वर्षों में करीब 25 हजार पौधा लगाया है.

राज्य के मंडी जिला का करसोग उपमंडल एक सुरम्य घाटी में बसा हुआ है. इसी घाटी में श्रद्धानंद रहते हैं. वह चुराग स्कूल में जीव विज्ञान के प्राध्यापक हैं. वह बच्चों को किताबी ज्ञान देने के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण के प्रति कर्तव्यबोध से भी परिचित कराते हैं.

श्रद्धानंद ने पर्यावरण संरक्षण जैसा महान कार्य के बदले में कभी कुछ भी नहीं चाहा. उन्होंने कभी भी किसी संस्था या व्यक्ति के समक्ष पुरस्कार या सम्मान पाने की लालसा नहीं जताई. इस पर्यावरण प्रेमी के अनुसार, वह अध्यापन और व्यक्तिगत कार्यों से जब भी समय निकालने में कामयाब हो पाते हैं तब वह प्रकृति को समृद्ध बनाने और मानवता को बचाने के काम में जुट जाते हैं. वह बताते हैं कि इस काम में बहुत आनंद और संतुष्टि मिलती है.



 प्रतिवर्ष 1500 पौधारोपण का लक्ष्य
श्रद्धानंद का लक्ष्य प्रतिवर्ष 1000 से 1500 पौधों को रोपने का रहता है और इस कार्य में उन्हें वन विभाग पूरी मदद करता है. वह बताते हैं कि पौधारोपण के कार्य को वह एक उत्सव की तरह मनाते हैं और लोग भी इसमें उन्हें पूरा सहयोग देते हैं. श्रद्धानंद का मानना है कि वनों में हर प्रकार के पौधे लगाने से जहां पर्यावरण संरक्षण को बल मिलेगा, वहीं जंगली जीव-जंतुओं को भी रिहायशी इलाकों में आने से रोका जा सकेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज