VIDEO: दहेज की बलि चढ़ी बेटी! सरकाघाट पुलिस ने पिता को धमकाया, दी गालियां

मंडी में सुसाइड का मामला.

मंडी में सुसाइड का मामला.

Suicide case in Sarkaghat: डीएसपी सरकाघाट चंद्रपाल सिंह का कहना है कि मौके पर परिजनों ने पुलिस पर बदतमीजी के आरोप लगाए थे और हमने उनसे इसकी लिखित में शिकायत देने को भी कहा था. लेकिन अभी तक इस संदर्भ में कोई लिखित शिकायत नहीं आई है

  • Share this:

(सरकाघाट) मंडी. हिमाचल प्रदेश के मंडी (Mandi) जिले में एक बेटी दहेज की बलि चढ़ गई. संदिग्ध हालात में एक महीने पहले बेटी की शादी (Marraige) हुई थी और अब उसने सुसाइड कर लिया. पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठ रहे हैं. लड़की के पिता (Father) से पुलिस ने बददसलूकी की है और आरोप लगा है कि पुलिस कर्मी ने पीड़ित पिता से गालीलौज (Abusing) भी की है.

दरअसल, मंडी जिले के सरकाघाट के बल्ह पनोह में गांव में एक नवविवाहिता युवती की संदिग्ध मौत हो गई. लड़की के ससुरालियों का कहना है कि युवती ने सुसाइड किया है. हालांकि, पुलिस और परिजनो के आने से पहले ही लड़की के शव को पंखे से उतर दिया गया था. मामले में पति और सास को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. घटना बीते की बताई जा रही है. युवती की शादी रिवालसर के पास टिक्कर के कणा गांव से हुई थी.

Youtube Video

पुलिस पर सवाल, लगाया अभद्रता का आरोप
पुलिस की कार्रवाई का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें पुलिस कर्मियों पर पिता आरोप लगा रहे हैं कि पुलिस कर्मी ने उनके साथ बदसलूकी की और गाली-गलौज भी की. साथ ही कहा कि तू नहीं बताएगा कि क्या कार्रवाई करनी है. पिता ने कहा कि अगर पुलिस कार्रवाई नहीं करती है तो वह एसपी मंडी से शिकायत करेंगे.

अति देवी की अप्रैल में ही शादी हुई थी.

क्या हैं परिजनो के आरोप



डीएसपी सरकाघाट चंद्रपाल सिंह का कहना है कि मौके पर परिजनों ने पुलिस पर बदतमीजी के आरोप लगाए थे और हमने उनसे इसकी लिखित में शिकायत देने को भी कहा था. लेकिन अभी तक इस संदर्भ में कोई लिखित शिकायत नहीं आई है और प्रारंभिक जांच में पुलिस की कोई बदतमीजी की बात भी सामने नहीं आई है. यदि शिकायत आती है तो फिर उसपर नियमानुसार कार्रवाई अम्ल में लाई जाएगी. घटनास्थल पर मैं खुद मौजूद था और पुलिस ने परिजनों के साथ पूरी तरह से सहयोग करके ही कार्रवाई को आगे बढ़ाया है.

मौके पर हुआ तनाव

पूरे मामले में शुक्रवार को ससुरालियों के घर पर तनाव हो गया था. परिजनों का कहना था कि वह ससुरालियों के आंगन में बेटी का अंतिम संस्कार कर देंगे. पुलिस से बातचीत के बाद भी परिजन नहीं माने थे. लेकिन बाद में जिला परिषद सदस्य चंद्रमोहन शर्मा की मध्यस्ता के बाद परिजन माने और बेटी का अंतिम संस्कार किया गया.

क्या बयान दिए

युवती के पिता दौलत राम बिजली बोर्ड में कार्यरत हैं. उनकी पांच बेटियां और एक बेटा है. पिता ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि शादी के बाद उनकी बेटी ने उन्हें फोन कर बताया कि दामाद बोल रहा है कि देहज में वॉशिंग मशीन नहीं दी. इस पर उन्होंने अगले ही दिन रिवालसर से मशीन खरीद कर बेटी के घर भेज दी. बाद में जब बेटी-दामाद उनके घर आए तो बेटी ने बताया कि साल बोल रही है कि तुम्हारी सभी बहनों के पति के पास अपनी-अपनी गाड़ियां हैं, तो तुम भी अपने पिता से कहो कि वह तुम्हें गाड़ी लेकर दें. इतना ही नहीं पिता ने बयान में कहा कि सास ने बेटी से कहा था कि शादी के दौरान एक पैर छुने वाली रस्म के वक्त सास को कोई गहना नहीं दिया गया. बता दें कि युवती का आरोपी पति फौज में कार्यरत है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज