VIDEO: NH-21 पर परिजनों ने लगाया जाम और कहा-हमारे लड़के ने नहर में नहीं लगाई छलांग...

मंडी के सुंदरनगर में गत वीरवार की रात युवक के नहर में छलांग लगाने के मामले में नया मोड़ आया है. परिजनों ने आरोप लगाया है कि मोहित ने छलांग नहीं लगाई बल्कि उसे नहर में जानबूझ कर फेंका गया है.

Nitesh Saini | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 30, 2019, 7:28 PM IST
Nitesh Saini
Nitesh Saini | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 30, 2019, 7:28 PM IST
हिमाचल प्रदेश में मंडी के सुंदरनगर में गत वीरवार की रात युवक के नहर में छलांग लगाने के मामले में नया मोड़ आया है. इस मामले में परिजनों ने आरोप लगाया है कि मोहित ने छलांग नहीं लगाई बल्कि उसे नहर में जानबूझ कर फेंका गया है. आरोपी युवको को उन्होंने पुलिस के हवाले भी किया परंतु पुलिस की ओर से मामले को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की. परिजनों का आरोप है कि रविवार को भी उन्हें थाने में बुलाया गया था लेकिन पुलिस वाले उनकी ही वीडियो बनाने में लग गए. यही वजह है कि हमने चक्का जाम करके प्रशासन तक अपनी आवाज पहुंचाने का निर्णय लिया.

दो घंटे से भी ज्यादा चंडीगढ़-मनाली पर लगा रहा जाम

परिजनों ने करीब सवा दो घंटे चंडीगढ़ मनाली राष्ट्रीय राजमार्ग पर चक्का जाम किया और पुलिस प्रशासन के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की. इस दौरान मार्ग पर दोनों ओर से वाहनों की लंबी लाइनें लगी रही और लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा. एसडीएम राहुल चौहान और डीएसपी तरनजीत सिंह ने मौके पर पहुंचकर परिजनों को किसी तरह मनाकर करीब 01:15 बजे मार्ग पर यातायात को बहाल करवाया. इसके उपरांत एसडीएम कार्यालय ले जाकर परिजनों को लिखित आश्वासन दिया जिसके उपरांत ही मामला शांत हो पाया.

परिजनों ने प्रशासन को दिया एक सप्ताह का अल्टीमेटम

वहीं परिजनों की ओर से प्रशासन को एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया गया जिसके तहत आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने व गोताखोर बुलाकर युवक की तलाश की मांग उठाई गई.

नहर में छटपटाता हुआ दिखा था 20 वर्षीय मोहित

गौरतलब है कि चतरोखड़ी निवासी 20 वर्षीय युवक मोहित कुमार गत वीरवार देर रात को नहर में छटपटाता हुआ देखा गया था. इस दौरान अंधेरा होने के कारण उसे बचाया नहीं जा सका और वह नहर में समा गया था. इसके उपरांत पुलिस ने मौके पर पहुंचकर उसका पर्स, बैग और जूते बरामद किए थे. पुलिस ने युवक के परिजनों को इस घटना की सूचना दी. परिजनों ने आसपास के युवकों पर उसे नहर में फेंकने का आरोप लगाया था.
Loading...

दोस्तों ने युवक की कुछ दिनों पहले ही की थी पिटाई

लापता युवक की माता मीरा देवी, चाचा रवि कुमार वालिया, विजय कुमार, ताया सोहनलाल, कमला देवी, विमला देवी तथा सन्नी वालिया ने बताया कि मोहित शहर में स्थित एक दुकान में सेल्समैन का काम करता था. इस दौरान उसकी युवकों के साथ दोस्ती हुई जिनमें से एक रोहांडा, बानगलू, बोबर तथा हरिपुर व भेछणा के थे. इन युवकों ने उसके साथ करीब 10-11 दिन पहले महामाया मंदिर के समीप मारपीट की थी.

आरोपी युवकों ने बाइक भी तोड़ डाली

उन्होंने कहा कि आरोपी युवकों ने पहले मोहित की बाइक तोड़ी जिसे नंबर प्लेट के बगैर जवाहर पार्क के समीप बरामद किया गया था. इस घटना के बाद मोहित को उन युवकों ने बीएसएल नहर में फेंक दिया. परिजनों ने कहा कि आरोपी युवकों को उन्होंने स्वयं पुलिस के हवाले किया परंतु पुलिस की ओर से ना ही कोई पूछताछ की गई.

परिजनों ने की ये मांग

मोहित के परिजनों ने आरोप लगाया कि आरोपी युवकों के जानने वाले लोग उनके खिलाफ जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल कर रहे हैं. एसडीएम कार्यालय पहुंच कर परिजनों ने अपनी मांगो को एसडीएम राहुल चौहान के समक्ष रखा जिन्हें उनकी ओर से लिखित में परिजनों को दिया गया. इसमें बीएसएल जलाशय में गोताखोर तब तक लगाए जाएं जब तक शव की बरामदगी नहीं हो जाती.

आरोपी युवकों को थाने में तलब किया गया

थाना प्रभारी गुरुबचन सिंह ने बताया कि मोहित के मौत के मामले में परिजनों ने कुछ युवकों पर मारपीट कर हत्या करने का आरोप लगाया और युवकों को गिरफ्तार करने की मांग की. पुलिस ने सभी युवकों को थाने में तलब किया है जिनसे गहनता से पूछताछ की जा रही है और मामले की जांच जारी है.

यह भी पढ़ें:  दिल्ली से घूमने आया यह डॉक्टर बना मानवता की मिसाल

PHOTOS: देखिए, मंडी के पराशर में हुए हादसे की 6 तस्वीरें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 30, 2019, 6:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...