मंडी: तीसरी टनल का भी हुआ ब्रेकथ्रू, लेह की दूरी 106 किमी कम होगी
Mandi News in Hindi

मंडी: तीसरी टनल का भी हुआ ब्रेकथ्रू, लेह की दूरी 106 किमी कम होगी
टनल के ब्रेकथ्रू के दौरान डीसी मंडी और अन्य.

मंडी जिला में पंडोह से टकोली तक का एरिया सबसे ज्यादा स्लाईडिंग वाला एरिया है. ऐसे में यहां टनलों के माध्यम से फोरलेन का निर्माण किया जा रहा है, क्योंकि और कोई विकल्प नहीं है.

  • Share this:
मंडी. सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण कीरतपुर-मनाली फोरलेन निर्माण के पूरा होने के बाद लेह तक की दूरी में 106 किमी की कमी हो जाएगी और लेह तक का सफर काफी आसान हो जाएगा. इस पूरे प्रोजेक्ट के तहत मंडी जिला में पंडोह से टकोली तक बन रही दस में से तीसरी टनल का ब्रेकथ्रू हुआ. यह ब्रेकथ्रू डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर ने बटन दबाकर किया. उन्होंने बताया कि टनलों का निर्माण काफी चुनौतीपूर्ण कार्य है लेकिन एनएचएआई के मार्गदर्शन में एफकॉन्स कंपनी बेहतरीन ढंग से इस कार्य को अंजाम दे रही है.

सेना का सारा सामान इसी रास्ते से लेह तक जाता है
उन्होंने बताया कि कीरतपुर से मनाली तक बन रहे फोरलेन का निर्माण कार्य पूरा होने के बाद 36 किमी का सफर कम हो जाएगा और इस कार्य में टनलों का अहम योगदान है. बता दें कि मनाली से लाहौल स्पिति के लिए एक और टनल बन चुकी है और उसका कार्य अंतिम चरण में है. जब यह टनल भी सुचारू हो जाएगी तो कीरतपुर से लेह तक की दूरी में 106 किमी की कमी आएगी, जोकि सेना के लिए काफी मददगार साबित होगा. क्योंकि सेना का सारा सामान इसी रास्ते से लेह तक जाता है.

क्या बोले डीसी मंडी
डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर ने कहा कि मंडी जिला में पंडोह से टकोली तक का एरिया सबसे ज्यादा स्लाईडिंग वाला एरिया है. ऐसे में यहां टनलों के माध्यम से फोरलेन का निर्माण किया जा रहा है, क्योंकि और कोई विकल्प नहीं है. उन्होंने कहा कि यह टनलें ऑल वैदर टनलें होंगी जहां हर मौसम में इनका इस्तेमाल किया जा सकेगा. उन्होंने तेज गति के साथ कार्य करने के लिए एनएचएआई और एफकॉन्स कंपनी के अधिकारियों को बधाई दी. मौके पर एसडीएम सदर निवेदिता नेगी, एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर अमर रोहिला, एफकॉन्स के प्रोजेक्ट मैनेजर आरके सिंह और एचआर हैड कर्नल बलजिंदर गौरैया सहित अन्य गणमान्य लोग भी मौजूद रहे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading