लाइव टीवी

मंडी: उहल के पानी ने दिखाया रंग, 3 सदस्यीय परिवार को आया 37 हजार रुपये बिल

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 13, 2019, 11:43 AM IST
मंडी: उहल के पानी ने दिखाया रंग, 3 सदस्यीय परिवार को आया 37 हजार रुपये बिल
मंडी में परिवार को पानी का बिल 37 हजार रुपये आया है. (सांकेतिक तस्वीर)

Water Bill Issue in Mandi: आईपीएच मंडी के अधिशाषी अभियंता विवेक हाजरी का कहना है कि उन्होंने कुछ ही दिन पहले कार्यभार संभाला है, वह इस बारे में तहकीकात करेंगे और जो भी हो सकेगा, वह करेंगे.

  • Share this:
मंडी. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में लगभग 90 करोड़ की लागत से तैयार हुई मंडी शहर (Mandi City) की उहल बहाव परियोजना (Uhal Water Project) का विधिवत उद्घाटन तो नहीं हुआ, मगर इसकी सप्लाई से आने लगे पानी के बिलों ने लोगों का रंग उड़ाना शुरू कर दिया है. मंडी के वरिष्ठतम नागरिकों के एक तीन सदस्यीय परिवार को आईपीएच विभाग (IPH Department Mandi) ने इस बार 37071 रुपये का बिल थमाया है.

माह दर माह बढ़ता गया बिल
मंडी शहर के स्कूल बाजार की इंदिरा हांडा के नाम से यह बिल है, जिसने उसके होश उड़ा रखे हैं. उन्होंने बताया कि दो महीने में एक बार इस साल जनवरी में उनका पानी का बिल 1185 रुपये का आया था, अप्रैल में 1304 रुपये, मई में 3408, अगस्त में 3098 रुपए आया, मगर अचानक ही अक्तूबर में यह बिल 33686 रुपए दे दिया गया. उन्होंने इसके बारे में विभाग के अधिकारियों से बात की, अपनी शिकायत दर्ज करवाई तो कहा गया कि जांच करेंगे और फिर बिल देंगे तब अदा करना.

मंडी- परिवार को भेजा गया बिल.
मंडी- परिवार को भेजा गया बिल.


पानी ओवरफ्लो हुआ होगा?
मौके पर कर्मचारी भी आए और कह दिया मीटर ठीक चल रहा है. पानी ओवरफ्लो हुआ होगा, यह बिल सही और अब उस बिल को जोड़ कर यह बिल 37071 दे दिया गया. रोचक तो यह है कि इस बार का बिल 2051 ही जोड़ा गया है, मगर पिछले बिल को ठीक नहीं किया गया. इंदिरा हांडा का कहना है कि उनके परिवार में तीन ही लोग हैं, जो 60 व 80 साल से ऊपर हैं. ज्यादा पानी और बेजा इस्तेमाल भी नहीं करते. कोई ओवरफ्लो-लीकेज भी नहीं है, मगर फिर भी कोई नहीं सुन रहा और बिल पर बिल थमाए जा रहे हैं.

हर स्तर पर विरोधजैसा कि मंडी में पिछले कई सालों से पानी की खपत का जो बिल बनता है, उसमें उसका आधा सीवरेज का अलग से जोड़ा जाता है. इसका हर स्तर पर विरोध हो रहा है. कई संस्थाएं मंत्रियों व मुख्यमंत्री से इसे उठा चुकी हैं, मगर फिर भी इसे लेकर कोई राहत लोगों को नहीं दी जा रही है. इस बिल नंबर 98853 मीटर नंबर 2060684, जो इस बार इंदिरा हांडा को दिया गया है, जिसके भुगतान की अंतिम तारीख 23 दिसंबर है. तीसरा हिस्सा यानी 12,500 रुपये के लगभग सीवरेज के चार्जिज हैं.

पूरे शहर में शिकायतें
गौरतलब है कि पानी के अधिक बिल आने की शिकायत पूरे मंडी शहर के उपभोक्ताओं की हैं. उहल नदी से बहाव प्रक्रिया के जरिए पेयजल सप्लाई चौबीसों घंटे रहने व ज्यादा प्रैशर के साथ आने के कारण पानी की टंकिंया व पाइपें लीक हो रही हैं और खपत से अधिक पानी सप्लाई हो रहा है. इससे ज्यादा खपत मीटर दिखा रहे हैं और बिल भी अंधाधुध आने लगे हैं. रही सही कसर, पानी की कीमत का आधा सीवरेज का जोड़ देने से पूरी होने लगी है. ऐसे में लोगों को पानी महंगा मिलने लगा है जो रोष का कारण बनता जा रहा है.

यह बोले अधिकारी
आईपीएच मंडी के अधिशाषी अभियंता विवेक हाजरी का कहना है कि उन्होंने कुछ ही दिन पहले कार्यभार संभाला है, वह इस बारे में तहकीकात करेंगे और जो भी हो सकेगा, वह करेंगे.

ये भी पढ़ें: हिमाचल में बर्फबारी ने रोकी जिंदगी की रफ्तार, 3 हाईवे समेत 195 रोड बंद

शिमला में कोयले की अंगीठी की गैस से दो साल की मासूम बच्ची की मौत

सफेद चादर से ढका शिमला, भारी बर्फाबारी के कारण NH-5 हुआ बंद

'नशे को कहें न' थीम पर मनाया जाएगा रेडक्रॉस मेला,15 को राज्यपाल करेंगे शुभारंभ

मंत्री महेंद्र ठाकुर ने कहा, आउटसोर्स नियुक्तियों पर रोक लगा सकती है सरकार

OMG! हिमाचली युवक के फेफड़े में 13 साल से फंसा था पेन का ढक्कन, IGMC ने निकाला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 11:43 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर