VIDEO: मंडी में खुदाई के दौरान मिली भगवान राम की 18वीं शताब्दी की मूर्ति

मनरेगा कार्य के लिए चल रही खुदाई के दौरान भगवान श्री राम की प्राचीन मूर्ति मिली.

मनरेगा कार्य के लिए चल रही खुदाई के दौरान भगवान श्री राम की प्राचीन मूर्ति मिली.

हरि सिंह म्यूजियम (शिमला) में इस मूर्ति की जानकारी देने पर बताया गया कि मूर्ति करीब 1870 की है और उस समय के राजाओं द्वारा बनाई गई है. बता दें कि मनरेगा योजना के तहत मजदूर खुदाई कर रहे थे, जब यह मूर्ति मिली.

  • Share this:

मंडी. मनरेगा कार्य में जुटे मजदूर खुदाई का काम कर रहे थे और तभी वहां पर भगवान श्री राम 'प्रकट' हो गए. मामला हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला के सरकाघाट उपमंडल की ग्राम पंचायत धनालग का है. यहां मनरेगा कार्य के लिए चल रही खुदाई के दौरान भगवान श्री राम की प्राचीन मूर्ति मिली है. हालांकि, मूर्ति कितनी पुरानी है, इसका अभी सही आंकलन नहीं हो पाया है. अनुमान लगाया जा रहा है कि यह मूर्ति 18वीं शताब्दी की है.

Youtube Video

बताया जा रहा है कि जहां पर यह प्राचीन मूर्ति मिली है, वहां पर राजाओं के समय में तीन प्राचीन मंदिर और कुछ गढ़ हुआ करते थे, जो समय के साथ नष्ट हो गए हैं. अब इनके मात्र कुछ अवशेष ही यहां पर नजर आते हैं. जो मूर्ति मिली है उसको लेकर भी यही अनुमान लगाया जा रहा है कि ये उन्हीं में किसी एक मंदिर की होगी. मूर्ति में भगवान श्री राम खड़े हैं और उनके एक हाथ में धनुष तो दूसरे हाथ में बाण है.

मूर्ति के साथ महिलाएं.

क्या बोले प्रधान

स्थानीय पंचायत के प्रधान बेसर सिंह ने बताया कि मनरेगा कार्य के दौरान जमीन से भगवान श्रीराम की मूर्ति मिली है. उन्होंने कहा कि पंचायत के लोगों से राय लेकर यह निर्णय लिया जाएगा कि आखिर इस मूर्ति को किस तरह से रखना चाहिए. अगर संभव हुआ तो यहां पर भगवान राम का भव्य मंदिर बनाया जाएगा. हरि सिंह म्यूजियम शिमला में इस मूर्ति की जानकारी देने पर बताया गया कि मूर्ति करीब 1870 की है और उस समय के दौरान राजाओं के द्वारा बनाई गई है. कहा कि अगर पंचायत के द्वारा मूर्ति को संरक्षित नहीं किया जाएगा तो इसे म्यूजियम में शिफ्ट कर दिया जाएगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज