डैम की फ्लशिंग से पंडोह बाजार में घुस आया पानी, लोगों का याद आया 1995 का मंजर

Virender Bhardwaj | News18 Himachal Pradesh
Updated: August 19, 2019, 10:49 AM IST
डैम की फ्लशिंग से पंडोह बाजार में घुस आया पानी, लोगों का याद आया 1995 का मंजर
मंडी जिले में ब्यास नदी में आई भीषण बाढ़ के लिए लोगों ने बीबीएमबी प्रबंधन को जिम्मेवार ठहराया है.

बीबीएमबी प्रबंधन ने भारी बारिश के बीच पंडोह डैम की फ्लशिंग का कार्य किया जिसके चलते नदी का जलस्तर बढ़ गया और पंडोह बाजार की अधिकतर दुकानों और घरों में पानी घुस गया है.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में ब्यास नदी में आई भीषण बाढ़ के लिए लोगों ने बीबीएमबी प्रबंधन को जिम्मेवार ठहराया है. पंडोह के लोगों का आरोप है कि बीबीएमबी प्रबंधन ने भारी बारिश के बीच पंडोह डैम की फ्लशिंग का कार्य किया जिसके चलते नदी का जलस्तर बढ़ गया और पंडोह बाजार की अधिकतर दुकानों और घरों में पानी घुस गया है. बता दें कि भारी बारिश के बीच पंडोह डैम के सभी पांचों गेट खोल दिए गए थे. पंडोह डैम से छोड़े गए पानी के कारण पंडोह बाजार में पानी घुस गया और इससे लोगों का भारी नुकसान हुआ है.

डैम प्रबंधन के पांचों गेट खोलने से आई बाढ़

Pandoh Dam-पंडोह डैम
लोगों का कहना है कि भारी बारिश के बीच डैम प्रबंधन ने फ्लशिंग की जिसके चलते बाढ़ आई है.


पंडोह निवासी पवन कश्यप और बालक राम ने बताया कि भारी बारिश के बीच डैम प्रबंधन ने सभी गेट खोलकर डैम की फ्लशिंग की जिस कारण पानी पंडोह बाजार तक पहुंच गया है. पंडोह बाजार में पानी एकदम से घुस गया जिस कारण लोगों को ना तो अपनी गाड़ियां बचाने का मौका मिला. बाजार के लोगों को इतना भी समय नहीं मिल पाया कि वे अपना सामान बचा पाएं.

लोगों का याद आ गया 1995 का मंजर

pandoh dam-पंडोह डैम
लोगों का आरोप है कि बीबीएमबी प्रबंधन ने पूरे डैम खाली कराया है जिसके चलते ब्यास नदी में बाढ़ आई है.


इस बाढ़ के चलते लोगों को 1995 का वो मंजर याद आ गया जब मनाली में बादल फटने के कारण पंडोह बाजार में पानी घुस आया था. लोगों का कहना है कि यदि डैम प्रबंधन भारी बरसात में डैम की फ्लशिंग नहीं करता तो इतना नुकसान नहीं होता.
Loading...

डैम की फ्लशिंग से पंडोह बाजार में घुस आया है पानी

pandoh dam-पंडोह डैम
बीबीएमबी के चीफ इंजीनियर नीतिश जैन ने बताया कि पंडोह डैम की फ्लशिंग का कार्यक्रम पहले से ही तय था और इस बारे में जिला प्रशासन को भी सूचित किया गया था.


वहीं बीबीएमबी प्रबंधन ने स्थानीय लोगों द्वारा लगाए जा रहे आरोपों को सिरे से खारिज किया है और इस बात को भी स्वीकार किया है कि डैम की फ्लशिंग की गई है. बीबीएमबी के चीफ इंजीनियर नीतिश जैन ने बताया कि पंडोह डैम की फ्लशिंग का कार्यक्रम पहले से ही तय था और इस बारे में जिला प्रशासन को भी सूचित किया गया था. उन्होंने बताया कि डैम के पास इतनी बड़ी रिजर्ववॉयर नहीं है कि यहां पानी स्टोर किया जा सके. यहां से पानी को सिर्फ डायवर्ट किया गया है और जो पानी पीछे से आया उसे ही आगे छोड़ा गया है.

सिल्ट की निकासी के लिए डैम की फ्लशिंग की गई

बता दें कि बीबीएमबी प्रबंधन सिल्ट निकासी के लिए समय-समय पर पंडोह डैम की फ्लशिंग करता रहता है, लेकिन भारी बारिश के बीच की गई फ्लशिंग से कई सवाल पैदा हो रहे हैं और यही वजह है कि लोग डैम प्रबंधन को इसके लिए दोषी मान रहे हैं.

यह भी पढ़ें: हिमाचल, पंजाब और उत्तराखंड में बाढ़ से 28 की मौत, हरियाणा और दिल्ली में अलर्ट जारी

आफत की बारिश: 24 घंटे में चार मरे, 102 करोड़ का हुआ नुकसान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मंडी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 19, 2019, 10:39 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...