मंडी: पहले कहा- बेटा हुआ है, एक दिन बाद थमा दी लड़की, DNA जांच की मांग

इस दंपति ने हॉस्पिटल प्रबंधन पर लगाया बच्चा बदल देने का आरोप.

इस दंपति ने हॉस्पिटल प्रबंधन पर लगाया बच्चा बदल देने का आरोप.

मंडी के जोनल हॉस्पिटल में महिला को बताया गया कि उसे लड़का हुआ. अगली सुबह मां की गोद में लड़की मिली. पिता ने मामले की निष्पक्ष जांच के लिए डीएनए टेस्ट करवाने की उठाई मांग. पुलिस को दी शिकायत.

  • Share this:

मंडी. बधाई हो, आपको बेटा हुआ है और उसका वनज 3 किलो है. जोनल हास्पिटल मंडी के डिलिवरी रूम में कुम्मी गांव की रहनेवाली मधु को एक बार नहीं, बल्कि तीन बार यह जानकारी दी गई. बच्चे का जन्म 28 और 29 मई की रात को 2 बजकर 44 मिनट पर हुआ था और वहां मौजूद कर्मियों ने मधु को बार-बार बेटे होने की बधाई दी थी. इसके बाद बाहर खड़े मधु के पति विजय को भी यही बताया गया.

अगले दिन पता चला कि बदल दिया गया बच्चा

अगली सुबह जब नवजात को टीका लगवाने के लिए ले जाने लगे तो मालूम हुआ कि उन्हें तो लड़के की जगह लड़की थमा दी गई है. मधु बताती हैं कि जब इस बारे में छानबीन शुरू की तो मौके पर मौजूद कर्मियों ने यह कहकर बात घुमा दी कि बोलने में गलती हो गई थी. मधु का इससे पहले भी एक बेटा है. यह उसकी दूसरी डिलिवरी थी.

पति ने लिखवाई थाने में रिपोर्ट
जैसे ही परिवार को इस बात का पता चला तो मधु के पति विजय कुमार ने सीटी चौकी जाकर इसकी लिखित शिकायत की. विजय ने बताया कि पहले तो पुलिस ने आने से आनाकानी की, लेकिन बाद में आए भी तो सिर्फ खानापूर्ति करके लौट गए. विजय ने बताया कि पुलिसवालों ने किसी कागज पर उसके हस्ताक्षर करवाए और कहा कि कोई गड़बड़ नहीं हुई है, सिर्फ कुछ गलतफहमी हो गई है. आज विजय कुमार ने जिला प्रशासन और पुलिस को इसकी शिकायत सौंपकर मामले की निष्पक्ष जांच और डीएनए टेस्ट करवाने की मांग उठाई है, ताकि सच सामने आ सके.

एसपी ने कहा - जरूरत पड़ने पर डीएनए टेस्ट

मंडी की एसपी शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि उनके पास शिकायत आई है और सीटी चौकी पुलिस को दोबारा से मामले की जांच पड़ताल करने का निर्देश दिया गया है. जरूरत पड़ी तो फिर डीएनए टेस्ट भी करवाया जाएगा. यदि किसी की लापरवाही पाई जाती है तो फिर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज