लाइव टीवी

गिरिपार की 132 पंचायतों ने मिलकर पीएम नरेंद्र मोदी को भेजा यह प्रस्ताव...

satish sharma | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 27, 2019, 4:45 PM IST
गिरिपार की 132 पंचायतों ने मिलकर पीएम नरेंद्र मोदी को भेजा यह प्रस्ताव...
​गिरिपार क्षेत्र के एक मंदिर का दृश्य

सिरमौर के गिरिपार क्षेत्र में रहने वाले हाटी समुदाय के लोगों ने चुनावी साल में एक बार फिर संयुक्त प्रस्ताव भेजकर जनजातीय क्षेत्र घोषित करने की मांग उठाई है. इस क्षेत्र के लोगों ने हिमाचल सरकार के जरिए प्रधानमंत्री को यह प्रस्ताव भेजा है.

  • Share this:
हिमाचल प्रदेश में सिरमौर के गिरिपार क्षेत्र में रहने वाले हाटी समुदाय के लोगों ने चुनावी साल में एक बार फिर संयुक्त प्रस्ताव भेजकर जनजातीय क्षेत्र घोषित करने की मांग उठाई है. इस क्षेत्र के लोगों ने हिमाचल सरकार के जरिए प्रधानमंत्री को यह प्रस्ताव भेजा है और बीजेपी को अपना चुनावी वायदा भी याद दिलाया है. लंबे समय से जनजातीय क्षेत्र की मांग कर रहे सिरमौर जिला के हाटी समुदाय की 132 पंचायतों ने मिलकर प्रधानमंत्री को प्रस्ताव भेजा है, जिसमें मांग की गई है कि इस क्षेत्र को जल्द ही जनजातीय क्षेत्र घोषित किया जाए. आरजीआई यानी रजिस्ट्रार जनरल ऑफ इंडिया की सभी औपचारिकताएंं पूरी करने के बाद यह प्रस्ताव केंद्र को भेजा गया है और क्षेत्र के लोगों को उम्मीद है कि यह मांग जल्द पूरी हो जाएगी. अगर यह मांग पूरी होती है तो इससे क्षेत्र की करीब तीन लाख की आबादी लाभान्वित होगी.

केंद्र को भेजे गए प्रस्ताव में लोगों ने बीजेपी को वह वायदा भी याद दिलाया है जिसमें कहा गया था कि यदि 2014 के लोकसभा चुनाव में पार्टी को बढ़त मिलती है तो गिरपार क्षेत्र को जनजातीय क्षेत्र घोषित किया जाएगा.

वर्ष 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष भाजपा राजनाथ सिंह ने नाहन में चुनावी जनसभा के दौरान घोषणा की थी कि अगर केंद्र में बीजेपी की सरकार बनती है तो क्षेत्र की मांग पूरी की जाएगी. ऐसे में लोगों को अब उम्मीद है कि चुनावी साल में यह मांग पूरी हो सकती है.

इस बारे में केंद्रीय जनजातीय मंत्री भी साल 2017 मेंं सिरमौर दौरे के दौरान मांग पूरी करने का आश्वासन दे चुके हैं. हरिपुरधार में जनसभा के दौरान केंद्रीय जनजातीय मंत्री जुएल ओराम ने कहा था कि चुनाव से लोगो की मांग पूरी की जाएंगी

इस क्षेत्र के लोगों की मांग है कि पड़ोसी राज्य उत्तराखंड के जौनसार बाबर की तर्ज पर हाटी समुदाय को भी जनजाति क्षेत्र का दर्जा दिया जाए क्योंकि दोनों जगह सामान भौगोलिक परिस्थितियां और सामाजिक रीति—रिवाज एक जैसे हैं. गौरतलब है कि जौनसार बावर को साल 1967 में जनजातीय क्षेत्र घोषित किया गया था.

यह भी पढ़ें: राहुल ने वीरभद्र को सौंपी लोकसभा चुनाव 2019 के लिए हिमाचल की कमान

 राहुल गांधी फेल हुए इसलिए प्रियंका गांधी को लेकर आई कांग्रेस: सांसद वीरेंद्र कश्यप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नाहन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 27, 2019, 4:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर